CM YOGI ADITYANATH,

कार्यकर्ताओं को योगी का संदेश, घर घर जा कर खोले विपक्ष की पोल

विपक्ष के पास गिनाने को कुछ भी नहीं

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM YOGI ADITYANATH) ने कार्यकर्ताओं को उपचुनाव के लिए बड़ी ज़िम्मेदारी सौपी है। उन्होंने कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि “विपक्ष के पास गिनाने को कुछ भी नहीं है, लिहाजा वह सिर्फ प्रोपगंडा कर रहा है। भाजपा कार्यकर्ता लोगों को केंद्र और प्रदेश सरकार की उपलब्धियां बताने के साथ-साथ विपक्ष की पोल भी खोलें।”

मुख्यमंत्री (CM YOGI ADITYANATH) मंगलवार को यहां अपने सरकारी आवास पर कानपुर देहात की घाटमपुर विधानसभा क्षेत्र सुरक्षित के मंडल, सेक्टर और बूथ के पदािधकारियों से ऑनलाइन मुलाकात कर उन्हें संबोधित कर रहे थे। सीएम योगी ने कहा कि इस दौरान उन्होंने कहा कि विपक्ष किसी भी हद तक जा सकता है। हालिया घटनाएं इसका सबूत हैं।

केंद्र और राज्य सरकार ने जनहित में अनेक ऐतिहासिक कार्य किए हैं। भाजपा कार्यकर्ता लोगों को केंद्र और प्रदेश सरकार की उपलब्धियां बताने के साथ-साथ विपक्ष की पोल भी खोलें। उन्होंने कहा कि विधानसभा के इस उपचुनाव में बूथ के गठन और उसके बाद मतदाताओं से गहन जनसंपर्क पर पूरा फोकस करें। आज के परिदृश्य में यही जीत की कुंजी है।

माफिया पनपते नहीं

योगी (CM YOGI ADITYANATH) ने कहा कि जनता तक आप सभी इस बात को पहुचाएं की अब नौकरियां क्षेत्र या जाति के आधार पर नहीं, मेरिट के आधार पर पूरी पारदर्शिता के साथ मिलती हैं। इसी आधार पर साढ़े तीन साल में तीन लाख युवाओं को नौकरियां मिली हैं। जल्दी ही इतने ही युवाओं को और मिलेगी। अब सत्ता के संरक्षण में अपराधी और माफिया पनपते नहीं, बल्कि पनाह मांगते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि जंगलराज के नाते अब उद्यमी यहां से अपना कारोबार समेटते नहीं, बल्कि लगाने को लालायित हैं और लगा भी रहे हैं। अब बिजली सिर्फ कुछ वीआईपी जिलों को नहीं, सबको तय समय तक मिलती है।

चौतरफा विकास से मरोड़

प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने कहा, “जिनका विकास से कभी कोई सरोकार नहीं रहा है, उनके पेट में प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की अगुआई में होने वाले चौतरफा विकास से मरोड़ होना स्वाभाविक है। उनकी कतई फिक्र न करें। उनकी साजिशों को बनेकाब करते हुए आप सदा राष्ट्र को सर्वोपरि मानते हुए कार्य करें। आप उस पार्टी के सदस्य हैं जिसमें श्यामा प्रसाद मुखर्जी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय और अटल बिहारी वाजपेयी जैसे नेता हुए हैं। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री उनकी ही परंपरा को संकल्प भाव से आगे बढ़ा रहे हैं।”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*