Writer Arundhati Roy gave a statement about the riots, FIR in 15 police stations of the state

लेखिका अरुंधति रॉय के खिलाफ छत्तीसगढ़ के 15 थानों में शिकायत

रायपुर . बुकर पुरस्कार विजेता लेखिका अरुंधति रॉय Arundhati Roy ने एक जर्मन मीडिया संस्थान को दिए इंटरव्यू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं भारत सरकार के लिए गलत टिप्पणियां की थी। इस बात पर अब छत्तीसगढ़ के 15 थानों में अरुंधति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई है। छत्तीसगढ़ सिविल सोसायटी की लीगल टीम ने एडवोकेट भूपेंद्र जैन के नेतृत्व में अरुंधति रॉय के लिए शिकायत दर्ज कराई है। दो दिनों में प्रदेश के कई थानों में शिकायत दर्ज हुईद्ध छत्तीसगढ़ सिविल सोसायटी के संयोजक डॉ. कुलदीप सोलंकी ने कहा कि अरुंधति का बयान देश की एकता एवं भाईचारे एवं अखंडता पर हमला है। वह देश में दंगे भडक़ाना चाहती हैं।

ये भी पढ़े पहली बार टॉम क्रूज का फेल हुआ मिशन, नया कारनामा नहीं दिखा पाएंगे

मोदी की तुलना हिटलर से की

इस कानूनी कार्रवाई के जरिए सोसायटी संदेश देना चाहती हैं कि कोई भी व्यक्ति निजी स्वार्थ के लिए देश की छवि एवं अखंडता को नुकसान नहीं पहुंचा सकता। इसके लिए उनके खिलाफ कार्रवाई होना बेहद जरूरी है। अरुंधति रॉय Arundhati Roy एक सुलझी हुई लेखिका है, लेकिन उनके बयान से उनकी मानसिकता साफ झलक रही है। बता दें कि अरुंधति रॉय ने प्रधानमंत्री मोदी की तुलना हिटलर से की है और भारत सरकार पर यह आरोप लगाया है कि जिस प्रकार नाजियों ने यहूदियों के कत्लेआम के लिए टायफस का इस्तेमाल किया था उसी प्रकार पीएम मोदी भी कोरोनावायरस महामारी का मुस्लिमों को सफाया करने के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं।

देश हिंसा और भूख से भी बेहाल

मोदी सरकार देश में कोरोना से हुई मौतों के गलत आंकड़े पेश कर वाहवाही लूट रही है, लेकिन अब भारत की पोल खुल रही है। उन्होंने Arundhati Roy यह भी कहा कि भारत में सिर्फ कोरोना से ही खतरा नहीं है, बल्कि घुणा, हिंसा और भूख से भी बेहाल है। जानबूझकर मोदी सरकार ने कोरोना को मुसलमानों के साथ जोडक़र पेश किया है, ताकि देश में विपरित माहौल बन सके, और पीएम मोदी अपनी रोटीसेंक सकें।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*