कलक्ट्रेट में उमड़ी मजदूरों की भीड़, पुलिस ने खदेड़ा

बस-ट्रेन की चलने की अफवाह सुनने पर पहुंचे कलक्ट्रेट

रायपुर. लॉकडाउन के दरमियान छत्तीसगढ़ में फंसे दूसरे राज्यों के मजदूर, शनिवार सुबह कलक्ट्रेट परिसर में इकट्‌ठा (Workers reached collectorate) हो गए। मजदूरों की बढ़ती संख्या मिलने की सूचना पर पहुंची पुलिस ने मजदूरों को कलक्ट्रेट परिसर से खदेड़कर निकाला।

यह भी पढ़े: छत्तीसगढ़ में शराब दुकान खोलने पर निर्णय कल, मंत्री ने दिए ये संकेत…

बताया जा रहा है, कि दूसरे राज्यों के लिए बस और ट्रेन चलने की सूचना मिलने पर,मजदूर घर जाने की मशक्कत के लिए पहुंचे थे। पीड़ित मजदूरों को कलक्ट्रेट परिसर से खदेड़ा गया है। सुरक्षा की दृष्टि से कलक्ट्रेट में पुलिस तैनात कर दी गई है।

दिल्ली जैसी घटना

रायुपर स्थित कलक्ट्रेट परिसर (Workers reached collectorate) में शनिवार की दोपहर दिल्ली जैसी घटना दोहरा गई। गलत सूचना मिलने पर बड़ी संख्या में तेलंगाना,  महाराष्ट्र और झारखंड के मजदूर पहुंचे और घर जाने की मांग करने लगे।

यह भी पढ़े: लॉकडाउन में तेलंगाना से 1200 मजदूरों को लेकर झारखंड की ओर रवाना हुई पहली ट्रेन

कलक्ट्रेट में मौजूद अधिकारियों ने पहले समझाइश की कोशिश की। मजदूर नहीं माने तो पुलिस को सूचना दे दी। सूचना मिलने पर कलक्ट्रेट पहुंची सिविल लाइन पुलिस ने सभी मजदूरों को परिसर से बाहर निकाला। 

मजदूरों को दी समझाइश

कलक्ट्रेट परिसर (Workers reached collectorate) में पुलिस पहुंचने के बाद जिला प्रशासन के अधिकारियों ने उन्हें समझाइश दी है। जिला प्रशासन के अधिकारियों ने कहा, कि किसी भी मजदूर को घबराने की जरूरत नहीं है। सभी को उनके गृहग्राम भेजा जाएगा।

यह भी पढ़े: रायपुर जिला देश के चुनिंदा कोरोना रेड जोन में आया, सुविधा विस्तार में अड़चन तय

गृहग्राम भेजने से पहले सभी का रजिस्ट्रेशन कराया जाएगा और स्क्रीनिंग कराई जाएगी। आपको बता दे कि दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को प्रदेश वापस लाने के लिए राज्य सरकार ने नोडल अधिकारियों को तैनात किया है। इन अधिकारियों को प्रदेश में फंसे मजदूरों को वापस भेजने की जिम्मेदारी भी मिली है। 

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*