CSVTU backlog and regular semester exam postponed

Expert : कोरोना प्रदेश में शिक्षा का पलायन रोक देगा या बढ़ेंगे डॉपआउट?

रायपुर . हायर एजुकेशन cg education के लिए नया सेशन सितंबर आखिरी तक शुरू होने के संकेत मिल रहे हैं। हालांकि यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशनअभी कोई गाइडलाइन जारी नहीं की है। इस सभी के बीच शिक्षा विशेषज्ञों ने एक बड़ा अनुमान लगाया है। उनका कहना है कि इस साल इंजीनियरिंग के लिए बाहरी विश्वविद्यालय (दूसरे राज्य) कूच करने वाले विद्यार्थियों की संख्या में 60फीसदी की कमी आएगी। इसका कारण है, कोरोना संक्रमण।

ये भी पढ़े Chhattisgarh news: रूस में फंसे प्रदेश के 325 छात्र, परिजनों ने वापस लाने की मांग

विशेषज्ञों cg education का कहना है कि छत्तीसगढ़ में हमेशा से ही इंजीनियरिंग की तालीम बेहतर रही है, इसलिए इस साल कॉलेजों के लिए यह ऑप्युनिटी खास होगी। आम तौर पर 40ा-60 को पढ़ाई के लिए दूसरे राज्य नहीं भेजेंगे। यानी आईआईटी, एनआईटी में चयनित विद्यार्थियों को छोडक़र शेष दूसरे राज्यों का पलायान नहीं करेंगे। यानी सीधे तौर पर इस साल छत्तीसगढ़ के इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश का ग्राफ बढ़ सकता है। माइग्रेट छात्र यहीं रुकेंगे।

15 मई तक संबद्धता

इंजीनियरिंग कॉलेजों को मान्यता अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) से हर साल 30 अप्रेल तक मिलती है। इसके बाद छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय cg education प्रदेश के इंजीनियरिंग कॉलेजों को 15 तक संबद्धता जारी करता है। फिलहाल, तकनीकी शिक्षा परिषद से इसमें विलंब को लेकर कोई सूचना जारी नहीं हुई है, इसलिए कयास लगाई जा रही है कि अपनी तय तारीख में एआईसीटीई कॉलेज को लेटर ऑफ अप्रूवल दे देगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*