Usendi comments state government,

प्रदेश सरकार के सियासी ड्रामों पर रोक लगाएं मरकाम: उसेंडी

केंद्र की आलोचना छोड़ ईमानदारी से कोरोना के खिलाफ जारी में ऊर्जा लगाएं

रायपुर. भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने आधी-अधूरी तैयारियों के साथ कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर प्रदेश सरकार पर जमकर निशाना साधा है। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी (Usendi comments state government) ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम को आडे हाथ लिया है।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष उसेंडी ने कहा कि प्रवासी मजदूरों की वापसी और बदहाली के लिए कांग्रेस और उसके गठबंधन की सरकारें ही जिम्मेदार हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पहले अपनी राज्य सरकार के सियासी ड्रामों पर रोक लगाने की पहल करें, जो प्रवासी मजदूरों की यथाशीघ्र वापसी में रोड़े अटकाने का काम कर रही है।

यह भी पढ़े: देश में लॉकडाउन बढ़ा 31 मई तक, अब राज्य तय करेंगे जोन

प्रवासी मजदूरों के मामले में प्रदेश सरकार की सियासी नौटंकियों की पूरी पोल खुल चुकी है। कांग्रेस नेता प्रदेश सरकार के इस कलंक को धोने की नाकाम कोशिशों में जुट गए हैं। बीजेपी नेता उसेंडी ने कहा कि प्रवासी मजदूरों के साथ प्रदेश की सीमा पर प्रदेश सरकार और उसके नौकरशाह किस तरह अमानवीयता की पराकाष्ठा कर रहे हैं, यह सच हाल के दिनों में खुलकर प्रदेश की जनता के सामने आ चुका है। इसके बावजूद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सच का सामना करने से कतरा रहे हैं।

यह भी पढ़े: कोराेना काल में किसानों की आय बढ़ाने वित्त मंत्री ने की घोषणाएं

कोविड-19 अस्पतालों के इंतज़ाम नहीं

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष (Usendi comments state government) ने कहा, कि प्रदेश सरकार ने कोविड-19 अस्पतालों में भी पूरे इंतज़ाम तक किए हैं। जांजगीर-चाँपा से लाए गए 5 कोरोना पॉजीटिव मरीजों का इलाज बिलासपुर के उस कोविड-19 अस्पताल में शुरू कर दिया गया, जहां परीक्षण और उपचार की पूरी तैयारी तक नहीं है। बीजेपी नेता ने कहा कि प्रदेश सरकार के इंतजामात की पोल यह भी है, कि उक्त अस्पताल के कर्मी जब लॉज गए तो उनसे सूट उतरवा लिया गया, ताकि उसका उपयोग अगले दिन हो सके।

यह भी पढ़े:  लॉकडान 4.0 के लिए सीएम भूपेश ने पीएम मोदी को क्या सुझाव भेजे हैं?

सेंटरों में सुरक्षा के इंतजाम नहीं

बीजेपी नेता ने (Usendi comments state government) कहा कि,  प्रदेश के क्वारेंटाइन सेंटर्स सुरक्षा और दीगर इंतजामात नहीं है। अभी हाल ही एक सेंटर में एक व्यक्ति ने आत्महत्या कर ली। मुंगेली जिले में किरना ग्राम पंचायत के क्वारेंटाइन सेंटर में रखे गए मजदूर योगेश वर्मा की सर्पदंश से मृत्यु हो गई। पुणे से लौटे इस मजदूर के लिए खाट या पलंग की व्यवस्था नहीं होने के कारण उसे जमीन पर ही सोना पड़ा। बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ने प्रदेश सरकार और कांग्रेस नेताओं को केंद्र की आलोचना के बजाय ईमानदारी के साथ प्रदेश में कोरोना के खिलाफ काम करने की नसीहत दी है।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*