train isolationm ward indian railway

Train isolation ward की खिडक़ी और छत पर खास चीज लगाई जाएगी, वो क्या है?

रायपुर . कोरोना से जंग तेज हो चुकी है। रेलवे स्टेशनों पर खड़ी पैसेंजर ट्रेनों के एसी और नॉन एसी कोच आइसोलेशन वार्ड में तब्दील होना शुरू हो गया है। बुधवार को स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से बयान जारी कर कहा गया है कि रेलवे 3.2 लाख आइसोलेटेड Train isolation ward बेड तैयार कर रहा है।

इसके लिए 20 हजार कोच में जरूरी बदलाव किए जा रहे हैं। मंत्रालय के ज्वाइंट सेके्रटरी लव अग्रवाल ने बताया कि यह कार्य शुरु करने के लिहाज से 5 हजार कोच में तब्दीली की जा रही है। कोच में टेस्टिंग किट, मेडिसिन और मास्क को लाइफ लाइन फ्लाइट की मदद से पहुंचाए जा रहे हैं।

रेल मंत्री ने ट्वीटर पर दी जानकारी

रेलवे रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर बताया कि रेलवे के 20 हजार कोचेस को ऐसे आइसोलेशन कोचों में बदला जा रहा है, जिनमें मरीजों को देखते हुए सारी सुविधाएं होंगी। शुरू में 5000 डिब्बों को दिया जाएगा।

अमरीका के वैज्ञानिक का दावा,खोज ली corona virus की दवा

स्लीपर क्लास के इन डिब्बों से मिडल बर्थ को काटकर निकाला जा रहा है ताकि जब उसमें मरीजों को आइसोलेट किया जाए तो उन्हें उठने-बैठने में परेशानी नहीं हो। Train isolation ward डिब्बे में बोतल रखने के लिए क्लैंप, कपड़े टांगने के लिए खूंटी, मोबाइल फोन और लैपटॉप चार्ज करने के लिए पॉइंट ठीक किए जा रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*