satyagraha,

शिक्षकों ने सत्याग्रह कर सीएम से मांगा अपना अधिकार

छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के बैनर तले मांग की

रायपुर। गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के बैनर तले प्रदेश भर के शिक्षकों ने सत्याग्रह (Satyagraha) कर क्रमोन्नति की मांग की। एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा ने बताया, कि 2 अक्टूबर को प्रदेश भर से हजारों शिक्षकों ने गांधी जयंती के अवसर पर अपने घरों में सत्याग्रह (Satyagraha) करते हुए शोषण, अन्याय व भेदभाव के खिलाफ एकजुट हुए। प्रदेश भर के शिक्षको ने ट्वीटर व फेसबुक में मुख्यमंत्री को टेग करते हुए अपनी मांगों के निराकरण करने की मांग की।

23 साल से क्रमोन्नति नहीं

एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने कहा, कि 23 साल में क्रमोन्नति नही, पदोन्नति के अलग पद होने के बाद भी पदोन्नति के लिए कोई शासकीय निर्देश व पहल नही हो रहा है। सहायक शिक्षक व शिक्षक संवर्ग की वेतन विसंगति दूर नही हुआ है। शिक्षा विभाग द्वारा रिवाइज्ड एल पी सी के निर्देश के बाद भी नई एल पी सी जारी नही हुआ, बाजार आधारित नई पेंशन स्कीम में रिटायर होने पर कोई सहारा नही है। कई वर्ष से पं/ननि व शिक्षा विभाग में अटका है।

1 नवंबर को शिक्षक मनाएंगे सम्मान-अधिकार दिवस

प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा (Satyagraha) ने कहा कि 01 नवंबर को शिक्षक सम्मान व अधिकार दिवस मनाएंगे। 23 वर्ष पूर्व प्रारंभ किये गए शिक्षा कर्मी प्रथा का काला अध्य्याय 01 नवंबर से समाप्त हो जाएगी।

1 नवंबर को शिक्षक सम्मान दिवस मनाएंगे, पर एल बी संवर्ग के शिक्षको के साथ भेदभाव होने के कारण अधिकार की मांग करेंगे। १ नवंबर 2004 से पुरानी पेंशन को छत्तीसगढ़ में बंद करते हुए एन पी एस लागू किया गया था। छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस के दिन 1 नवम्बर को सरकार व शासन तक ट्वीटर व फेसबुक के माध्यम से शिक्षकों की आवाज पहुचाएंगे।

देश-प्रदेश की खबरों के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*