Congress

Arnav Goswami का समर्थन पड़ा भारी.. कांग्रेस ने दिखाया बाहर का रास्ता

कांग्रेस नेता विक्की शर्मा का 6 साल का निष्कासन

दुर्ग. टीवी पत्रकार अर्णब गोस्वामी (Arnav Goswami) पर छत्तीसगढ़ में अलग-अलग थानों में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने 103 एफआईआर कराई है। लेकिन इन सब के बीच अर्णब गोस्वामी (Arnav Goswami) का समर्थन करना एक कांग्रेसी नेता को भारी पड़ गया। उनका काम पार्टी को नागवार गुजार और उसे पार्टी से निष्कासित कर दिया गया।

दुर्ग के पदाधिकारी के खिलाफ कार्रवाई

दरअसल यह मामला मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के गृह जिले दुर्ग का है। जहां विक्की शर्मा नाम के कांग्रेसी नेता को पार्टी ने 6 साल के लिए निष्कासित किया है। जिलाध्यक्ष तुलसी साहू के मुताबिक विक्की ने अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ अशोभनीय बयान देने वाले अर्णब गोस्वामी (Arnav Goswami) का समर्थन किया। साथ ही थाने में पहुंचकर एफआईआर निरस्त करने की भी मांग की।

यह भी पढ़ें- फ्लिपकार्ट और अमेजन पर रोक, गृह मंत्रालय का आदेश… सिर्फ जरूरी सामान बेचो

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने इस पूरे प्रकरण को संजीदगी से लिया और भिलाई के ब्लॉक अध्यक्ष ने विक्की की प्राथमिक सदस्यता को समाप्त करते हुए छह साल के लिए निष्कासित कर दिया। किसान कांग्रेस के प्रवक्ता और जिला महामंत्री विक्की ने प्रदेश संगठन से सवाल किया था कि क्या एक व्यक्ति पर एक ही घटना के लिए 100 से अधिक एफआइआर दर्ज कराने का अधिकार है?

निष्कासित कांग्रेसी नेता ने टिप्पणी की थी कि ऐसे ही हरकतों से कानून का मजाक बनाता है। शर्मा ने कहा कि पत्रकार की निर्भीकता ही उसकी पहचान होती है, उसका हनन नहीं किया जा सकता। छत्तीसगढ़ में 15 साल बाद मिले जनता के जनमत का सम्मान करो। अहंकार में लिया गया निर्णय सदैव घातक होता है।

निष्कासन के बाद विक्की ने कहा कि कांग्रेस के अंदर गलत नीतियों का मैं पहले भी विरोध करता था और अब मुखर होकर अपनी बात रख सकूंगा।

यह भी पढ़ें- श्रीलंका ने भारत से मांगी मदद, रिजर्व बैंक के साथ 40 करोड़ डॉलर मुद्रा की अदला-बदली

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*