Principal appointed for English medium schools to be opened in the state, society will be formed

प्रदेश की सरकारी स्कूल क्वारंटाइन, यहां मजदूर ठहराए, एक जुलाई से पढ़ाई कैसे?

दुर्ग . केंद्र सरकार ने अनलॉक-1 की (school quarantine) गाइडलाइन जारी कर दी है। एक जुलाई से स्कूली शिक्षा को दोबारा से पटरी पर लाने की तैयारी है, लेकिन इसके साथ कई चुनौतियां भी आ गई हैं। दुर्ग जिले में ही 503 शासकीय स्कूलों को कोरोना के लिए क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया है। बाहर से आ रहे प्रवासी मजदूरों को यहीं ठहराया गया है।

ये भी पढ़े – 28 राज्यों के बीच दुर्ग की बेटी ने जीती प्रतियोगिता, केंद्र सरकार ने सराहा

ऐसे में यदि जून के आखिर तक कोरोना पर काबू नहीं पाया गया तो इन क्वारंटाइन सेंटर को वापस से स्कूल की शक्ल देना बेहद मुश्किल हो जाएगा। (school quarantine) अकेले धमधा विकासखंड में 139 के करीब शासकीय स्कूल क्वारंटाइन है। इससे ज्यादा दुर्ग में सेंटर है।इनमें कक्षा लगाने से पहले इनको प्रॉपर सेनेटाइज कराने में भी समय लगेगा।

शिक्षा विभाग देगा निर्देश

कोरोना संक्रमण प्रदेश में भी पैर पसार रहा है। अभी कोरोना के 430 के करीब मामले आ चुके हैं। ऐसे में एक जुलाई से स्कूलों को दोबारा शुरू कराने के लिए जल्द ही शिक्षा विभाग निर्देश जारी करेगा। जिन स्कूलों को क्वारंटाइन सेंटर (school quarantine) बनाया गया है, उनमें सेनेटाइजेशन कार्य की रूपरेखा तैयार होगी।

ये भी पढ़े – बस्तर में नकली पुलिस बनकर कर रहे थे ये काम, ऐसे हुआ खुलासा

जिला शिक्षा अधिकारी प्रवास सिंह बघेल ने कहा कि शासन से निर्देश मिलने के बाद ही जुलाई से स्कूल शुरू होंगे। अभी जिन स्कूलों को कोरोना को क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया है, उनमें यदि एक मजदूर भी बाहर से आया होगा तो भी यह स्कूल प्रॉपर सेनेटाइज करना जरूरी हो जाएगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*