Seven Pagla Khedoot Kalyan,

किसानों के विकास को समर्पित गुजरात सरकार: सीएम रूपाणी

मुख्यमंत्री ने इसके लिए शुरू की कई योजनाएं

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी (Vijay Rupani) ने किसानों (Farmers) और कृषि क्षेत्र (Agricultaral Field) के विकास के लिए अपनी प्रतिबद्धता के साथ एक कल्याणकारी योजना की आज शुरुआत की है।

कृषि क्षेत्र को गति प्रदान करने के साथ इसके समग्र विकास में तेजी लाने के लिए एक स्पष्ट दृढ़ संकल्प के साथ इस योजना की शुरुआत आज मुख्यमंत्री के द्वारा की गई। किसानों के लिए शुरू की गई कल्याणकारी परियोजना का नाम ‘सात पगला खेडूत कल्याण’ (Seven Pagla Khedoot Kalyan) है। इस मौके पर सीएम रूपाणी ने कहा कि गुजरात कृषि, उद्योग, सेवा क्षेत्र में नई तकनीक और आधुनिक कृषि विधियों के साथ संतुलित विकास के लिए एक अग्रणी मॉडल बन गया है।

सात पगला खेडुत कल्याण’ योजना की शुरुआत

मुख्यमंत्री ने राज्य सरकार के कृषि और किसान कल्याण विभाग और सहकारिता विभाग द्वारा गांधीनगर में राज्य के 33 जिलों में 80 स्थानों पर आयोजित एक कार्यक्रम में ‘सात पगला खेडुत कल्याण’ योजना (Seven Pagla Khedoot Kalyan) की शुरुआत की।

CM Vijay Rupani

इस योजना के तहत, किसानों के लाभ के लिए कृषि और आर्थिक उत्थान, नई फसल उत्पादन, फसल भंडारण, वितरण, गाय आधारित खेती, किसान सेवा योजना और मुख्मंत्री पाक संघर्ष संरचना योजना सहित सात कदम उठाए गए हैं। मुख्यमंत्री ने आज इनमें से दो महत्वपूर्ण कदम “मुख्मंत्री पाक संगहरा संरचना (गोदाम) योजना” के साथ-साथ “किसान परिवहन योजना” का शुभारंभ किया।

30,000 रुपए तक की सहायता राशि

“मुख्मंत्री पाक संगहरा संरचना (गोदाम) योजना” में गोदाम संरचना के लिए किसान को 30,000 रुपए तक की सहायता राशि प्रदान की जाती है। वहीं किसान सुरक्षा योजना (Seven Pagla Khedoot Kalyan) का उद्देश्य किसान को अपनी उपज को आसानी से अन्य बाजारों में पहुंचाना और अधिक आय अर्जित करना है। किसानों को छोटे वाहनों की खरीद के लिए 75,000 रुपये की अधिकतम वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है।

CM Vijay Rupani

किसान परिवहन योजना के तहत, राज्य सरकार ने एक ही दिन में 1.25 लाख किसानों को 400 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की। इस सहायता के परिणामस्वरूप, अगले तीन महीनों में, राज्य के अपने गोदामों की भंडारण क्षमता में 2.32 लाख टन की वृद्धि होगी और फसल बर्बादी को रोका जा सकेगा। इतना ही नहीं, किसान परिवहन सहायता योजना के तहत, किसान अपने छोटे वाहन में बाजार में कृषि उपज बेचकर आर्थिक समृद्धि की ओर अग्रसर होगा।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*