Self-esteem platform accused, Modi government is weakening Chhattisgarh under the cover of Corona

मंच का आरोप, कोरोना की आड़ में छत्तीसगढ़ को कमजोर कर रही मोदी सरकार

रायपुर . छत्तीसगढ़ स्वाभिमान मंच swabhiman manch ने केंद्र सरकार और पीएम मोदी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। मंच का अरोप है कि मोदी सरकार कोरोना वायरस की आड़ में राज्यों को कमजोर और केंद्र को मजबूत करने के संघी एजेंडा पर काम कर रही है। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने में केंद्र और राज्य सरकारें पूरी शक्ति से प्रयास कर रहे हैं। 40 दिन के लाकडाऊन के कारण अधिकांश औद्योगिक गतिविधियां बंद है, जिसके कारण उत्पादन की क्षति तो हो ही रही है टैक्स सहित विभिन्न मदों में सरकारों को मिलने वाले राजस्व की आमदनी भी बंद हो गई है।

दखलअंदाजी कर रही केंद्र सरकार

छत्तीसगढ़ स्वाभिमान मंच swabhiman manch के राष्ट्रीय अध्यक्ष एड. राजकुमार गुप्त ने मोदी सरकार पर आरोप लगाया है कि संविधान के संघीय ढांचे को तहस नहस करने की कोशिश कर रही है मोदी सरकार। पूर्व में भी राज्यों के अधिकार क्षेत्र में दखलंदाजी करती रही है। सीएसआर की राशि को हड़पकर मोदी सरकार ने राज्यों के अधिकार पर नया हमला किया है। मंच के अध्यक्ष ने केद्र सरकार से मांग किया है कि छत्तीसगढ़ के खनन और औद्योगिक संस्थानों द्वारा पीएम केयर फंड में जमा किए गए सीएसआर की राशि को तत्काल राज्य सरकार को वापस करे।

ये भी पढ़े अमित शाह ने सीएम भूपेश को दिलाया भरोसा, लॉकडाउन में फंसे लोगों की होगी वापसी

सीएसआर क्षेत्र की जरूरत

मंच swabhiman manch ने कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण और भुखमरी से नागरिकों की रक्षा करने के लिए सरकारों के खर्च भी बढ़ गए हैं, जीएसटी लागू होने के बाद राज्यों की आमदनी के स्त्रोत अत्यंत सीमित हो गए हैं। राज्य में संचालित होने वाली खनन और औद्योगिक संस्थानों से सीएसआर के मद में राज्य सरकार को हजारों करोड़ की आमदनी होती है, जिसे आसपास के क्षेत्रों के विकास पर खर्च की जाती रही है एक प्रकार से सीएसआर की राशि में राज्य सरकार और क्षेत्रीय जनता का वैधानिक अधिकार है और ये जनता को मिलना ही चाहिए।

सीएसआर मद पीएम फंड में क्यों?

मंच ने कहा कि, मोदी सरकार ने बड़ी चालाकी से खनन और औद्योगिक गतिविधियां संचालित करने वाले संस्थानों को सीएसआर की राशि सीधे पीएम केयर फंड में जमा करने की बात कही है। ऐसा करके मोदी सरकार कोरोना वायरस से संघर्ष करने वाले राज्य सरकारों को आर्थिक और मानसिक रूप से कमजोर करने का काम किया है। राज्य सरकारों का मनोबल गिरने से कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई की धार निश्चित रूप से भोथरा हो जाने का खतरा उत्पन्न हो गया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*