Sapre Shala Maidan,

विरोध के बीच सप्रे शाला को छोटी करने की कोशिश जारी, दूसरे मैदान भी निशाने पर

जिम्मेदार बोले मैदान का हो रही सौंदर्यीकरण, व्यवसायिक उपयोग नहीं होगा

रायपुर. राजधानी स्थित सप्रे मैदान (Sapre Shala Maidan) में रहवासियों के बीच निगम के अधिकारियों ने खुदाई करना शुरू कर दिया है। स्थानीय रहवासियों ने मामलें में महापौर और नगर निगम अधिकारियों के सामने विरोध दर्ज कराया है। स्थानीय रहवासियों का विरोध देखकर रविवार को निर्माण कार्य बंद रखा गया है।

विरोध करने पहुंचे लोगाें ने दो टूक कहा, कि  निर्माण कार्य के नाम पर यदि सप्रे शाला मैदान (Sapre Shala Maidan) को फिर छोटा करने की कोशिश की तो खैर नहीं होगी। नगर निगम सप्रे शाला मैदान के एक हिस्से में सड़क और दूसरे हिस्से में चौपाटी बनाने की तैयारी कर रहा है। सप्रे शाला मैदान की बाउंड्रीवॉल से करीब 20 फीट अंदर मार्किंग कर खोदाई चल रही है।  

यह भी पढ़े: कोरोना काल में तेंदूपत्ता संग्रहण बना वनवासियों की आय का स्रोत

राजनीति दल भी सक्रिय

सप्रे शाला मैदान (Sapre Shala Maidan) की तरह दानी गर्ल्स स्कूल में खाली हिस्सों से पुराने पेड़ों को काटकर जगह को साफ-सुथरा किया जा रहा है। यहां पुराने निर्माण को जेसीबी मशीन से तोड़ने के लिए प्रक्रिया चल रही है। मामले में भाजपा के पार्षद दल सक्रिय हो गए हैं। उनका कहना है कि बच्चों को खेलने के लिए पहले से ही मैदान नहीं है।

यह भी पढ़े: नए नियमों के साथ छत्तीसगढ़ में 30 जून तक लॉकडाउन, मिलेगी ये राहत…

पूर्व में भी चल चुकी जेसीबी मशीन

यह पहली बार नहीं है। इससे पूर्व में भी सप्रे शाला मैदान को छोटा करने का प्रयास किया जा चुका है। शाला अ और शाला ब के नाम पर सप्रे शाला में जेसीबी चली, तो कभी बॉलीबाल कोर्ट बनाने के नाम पर मैदान के हिस्से को दबाया गया। अब सौंदर्यीकरण के नाम पर मैदान को छोटा करने प्रोजेक्ट लेकर जिम्मेदार लोगों के बीच पहुंचे है।   

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*