robot nurse,

एम्स के कोरोना वार्ड में अब रोबोट नर्स मरीजों तक पहुंचाएगी दवाईयां

सीएम बघेल ने रोबोट नर्स का उद्धाटन करके एम्स प्रबंधन को सौंपा

रायपुर. कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए देश के साथ, शार्क देशों में भी मशहूर हुए रायपुर एम्स प्रबंधन, अब मरीजों को दवाईयां देने के लिए तकनीकी का इस्तेमाल करेगा। एम्स प्रबंधन के कोरोना संक्रमित वार्ड में अब संक्रमित मरीजों को दवाईयां रोबोट नर्स (Robot nurse) दवा उपलब्ध कराएगी। सीएम भूपेश बघेल ने गुरुवार को सीएम हाउस में शोभा टाह फाउण्डेशन बिलासपुर द्वारा अत्याधुनिक तकनीक से निर्मित ’रोबोट नर्स’ का शुभारंभ किया।

सीएम बघेल ने सुरक्षात्मक दृष्टि से बेहतर उपयोग के लिए निर्मित इस रोबोट नर्स का उद्धाटन किया। रोबोट नर्स को एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) रायपुर के कोविड-19 वार्ड में उपयोग के लिए मौके पर ही सौंप दिया गया है। सीएम बघेल ने अत्याधुनिक तकनीक से निर्मित रोबोट नर्स (Robot nurse) की खोज के लिए शोभा टाह फाउण्डेशन बिलासपुर की सराहना की और इसे कोविड-19 और विभिन्न संक्रामक बीमारियों से बचाव के लिए बहुत उपयोगी बताया।

90 फीट की दूरी से सामग्री देने में सक्षम

एम्स प्रबंधन को मिला यह रोबोट नर्स एक बार में एक 90 फीट की लंबाई तक सामग्री का आदान-प्रदान करने में सक्षम है। वार्ड में बिना मानव के मरीज तक आवश्यक दवाईयां, कपड़े सहित खान-पान की सामग्रियों को पहुंचाने के साथ-साथ वापस लाने की सुविधा से युक्त है।

इसके साथ ही रोबोट नर्स (Robot nurse) के माध्यम से अस्पताल में चिकित्सक तथा मरीज के बीच कैमरे तथा मोबाइल द्वारा फोटो, वीडियोग्राफी, वीडियोकॉलिंग तथा चैटिंग आदि भी की जा सकेगी। इसके लिए चिकित्सक को मरीज के पास जाने की जरूरत नहीं होगी। इस तरह मेन पॉवर के बिना रोबोट नर्स के माध्यम से मरीज तक आवश्यक सुविधाओं की सेवाएं जल्द से जल्द पहुंचायी जा सकेगी।

इससे वर्तमान में कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव के लिए अस्पताल में कार्यरत चिकित्सक, नर्स तथा सफाईकर्मी आदि लोगों को भी इलाज आदि के कार्यों में काफी सहूलियत होगी। इस अवसर पर टाह फाउण्डेशन से जुड़े सतीश कुमार, अमर गिर्दवानी तथा एम्स रायपुर के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. करण पीपरे आदि उपस्थित थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*