Republic TV editor Arnab relieved by Supreme Court, stay on all FIRs

रिपब्लिक टीवी एडिटर अर्णब को सुप्रीम कोर्ट से राहत, सभी एफआईआर पर स्टे

रायपुर . रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी को डिबेट के दौरान soniya gandhi सोनिया गांधी पर टिप्पणी करने के मामले में सुप्रीम कोर्ट से थोड़ी राहत मिल गई। सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल सभी एफआईआर पर स्टे दिया। नागपुर में दायर केस को मुंबई ट्रांसफर करने का आदेश दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने मुंबई पुलिस कमिश्नर से अर्णब और उनके चैनल को सुरक्षा देने के भी निर्देश दिए। सुप्रीम कोर्ट ने अर्णब पर 3 हफ्तों तक किसी भी कार्रवाई पर रोक लगा दी है।

कोर्ट रूप के भीतर

कोर्ट रूप के भीतर अर्णब के वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि अर्णब के खिलाफ महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, राजस्थान, पंजाब, तेलंगाना और जम्मू-कश्मीर में एफआईआर दर्ज की गई हैं। कांग्रेस soniya gandhi की ओर से पेश हुए वकील कपिल सिब्बल ने कहा, ‘आप ऐसे बयानों का हवाला देकर सांप्रदायिक हिंसा पैदा कर रहे हैं, अगर एफआईआर दर्ज की गई हैं, तो आप इसे ऐसे कैसे रोक सकते हैं? जांच होने दीजिए, इसमें क्या गलत है?

ये भी पढ़े – अभिनेत्री भाग्यश्री ने डिश बनाने का वीडियो किया शेयर, खूब देखा जा रहा वीडियो

कांग्रेस का आरोप है कि अर्णब ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की। छत्तीसगढ़ के ही 25 जिलों में अर्णब पर 101 एफआईआर दर्ज की गई है। सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस डीवाय चंद्रचूड़ और जस्टिस एमआर शाह ने इस मामले की सुनवाई की।

Soniya gandhi के बारे में खबर प्रसारित

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बारे में गलत रूप से खबर प्रसारित करने के मामले में रिपब्लिक टीवी के एंकर व संपादक Republic Tv अर्णव गोस्वामी बुरे फंसे हैं। उनके खिलाफ रायपुर के विभिन्न थानों में एक के बाद एक एफआईआर दर्ज कराई गई है। आखिरकार रायपुर सिविल लाइन थाना ने अर्नब को नोटिस जारी करते हुए कहा है कि उन्हें 5 मई को सुबह 11 बजे तक तथ्यात्कम जानकारी के साथ हाजिर होना पड़ेगा।

पुलिस ने कहा है कि घटना के संबंध में आपसे पूछताछ की जानी है। रायपुर पुलिस ने सीआरपीसी की धारा-91 के तहत ये नोटिस जारी किया है। छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने राजधानी रायपुर सहित पूरे छत्तीसगढ़ में में टीवी पत्रकार अर्णव गोस्वामी के खिलाफ पुलिस में शिकायतदर्ज करवाई है.

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*