Rahul, the finance minister, has been targeting in the bank loan case, 13 tweets gave all the answers.

बैंक कर्ज मामले में निशाना साध रहे राहुल, वित्त मंत्री ने 13 ट्वीट कर दे दिए सारे जवाब

दिल्ली . फाइनैंशियल Minister Finance सेक्टर के बीच इन दिनों डिफॅाल्टर्स के मुद्दे पर खास चर्चा हो रही है। देश के बैंकों ने 50 बड़े डिफाल्टर्स का 68,607 करोड़ रुपए का कर्ज अधर में छोड़ दिया है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी इस मामले में मोदी सरकार पर लगातार हमला कर रहे हैं। राहुल ने कहा है कि अब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने नीरव मोदी, मेहुल चोकसी सहित भाजपा के मित्रों के नाम बैंक चोरों की लिस्ट में डाल दिए हैं।

माल्या से लेकर नीरव मोदी तक

राहुल के हमले का अब वित्त मंत्री Minister Finance निर्मला सीतारमण ने जवाब दिया है, उन्होंने कांग्रेस पर देश की जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया है। वित्त मंत्री ने एक-एक कर 13 ट्वीट कर दिए जिसमें उन्होंने अपना जवाब रखा। Minister Finance ने कहा, विजय माल्या से लेकर नीरव मोदी तक बीजेपी सरकार ने कर्ज वसूली के लिए क्या कदम उठाए हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने लोगों को गुमराह करने की कोशिश की है। तथ्यों को सनसनीखेज बनाया है।

ये भी पढ़ेलॉकडाउन की वजह से छत्तीसगढ़ के 99 हजार 236 मजदूर फंसे दूसरे राज्यों में

गुमराह करने की कोशिश

वित्त मंत्री Minister Finance निर्मला सीतारमण ने आगे कहा कि कांग्रेस के नेताओं ने जानबूझ कर बैंकों का कर्ज नहीं लौटाने वाले, फंसे कर्जों और राइट-ऑफ (बट्टे खाते) पर गुमराह करने की कोशिश की। आशा है कि राहुल गांधी ने डॉ मनमोहन सिंह से सलाह ली होगी कि यह राइट-ऑफ (बट्टा खाता) किस बारे में था। निर्मला सीतारमण ने मेहुल चोकसी केस के बारे में कहा कि सरकार ने मेहुल चोकसी की 1936 करोड़ रुपए से अधिक की संपत्ति को सीज और अटैच कर लिया है।

इसमें 67.9 करोड़ रुपए की विदेशी संपत्ति भी शामिल है। वित्तमंत्री ने बताया कि चोकसी के प्रत्यर्पण के लिए एंटीगुआ को एक अर्जी भेजी जा चुकी है। इसके अलावा उसे भगोड़ा घोषित करने की प्रक्रिया भी जारी है। वित्त मंत्री ने कहा कि हीरा व्यापारी नीरव मोदी की करीब 2387 करोड़ रुपए की संपत्ति को भी सरकार ने अटैच या सीज किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*