Purple-pink diamond,

दुर्लभ डायमंड में शुमार पर्पल-पिंक होगा नीलाम

खासियत-कीमत पढ़ने के लिए क्लिक करें

मॉस्को। दुनिया के दुर्लभ हीरो में शामिल पर्पल-पिंक डायमंड (Purple-pink diamond) को नीलाम करने का निर्णय लिया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सोथबी के जेनेवा मैग्नीफिशेंट ज्वेल्स और नोबल ज्वेल्स पर 11 नवंबर को हीरे की नीलामी की जाएगी। फोर्ब्स के मुताबिक 14.83 कैरेट के इस हीरे का नाम ‘द स्पिरिट ऑफ द रोज’ है। जिसे 23-38 मिलियन यानी, 20 लाख 30 हजार से 30 लाख 80 हजार रुपये तक की कीमत पर नीलाम किया जा सकता है।

जेमोलॉजिकल इंस्टीट्यूट ऑफ अमेरिका ने हीरे को उच्चतम रंग और स्पष्टता के साथ वगीर्कृत करते हुए इसे टाइप ककंहीरे के रूप में ग्रेड किया है। ये हीरे (Purple-pink diamond) का सबसे शुद्ध क्रिस्टल है। मीडिया आउटलेट्स ने सोथबी के आभूषण विभाग के लिए मैग्नीफिशेंट ज्वेलरी बिक्री के निदेशक बेनोइट रेपेलिन के हवाले से कहा, यह नीलामी अलरोसा और सोथबी के बीच लंबे समय के रिश्ते का परिणाम है, इस मास्टरपीस के बारे में कई महीनों की चर्चा के बाद इसे नीलाम करने का यह अच्छा तरीका है।

अलरोसा की खान से निकला हीरा

ओवल के आकार का यह रत्न 27.85 कैरेट के स्पष्ट गुलाबी खुरदरे हीरे (Purple-pink diamond) से बनाया गया था। इसकी खोज रूस के पूर्वोत्तर सखा गणराज्य में रूसी खनन की दिग्गज कंपनी अलरोसा की खान में हुई थी। हीरे का नाम रूसी बैले के नाम पर ‘द स्पिरिट ऑफ द रोज’ रखा गया था, जिसका मंचन सर्गेई डायगिलेव द्वारा किया गया और 19 अप्रैल, 1911 को इसका प्रीमियर किया गया था।

देश-प्रदेश की खबरों के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*