Supreme Court of India, Historic decision of the Supreme Court,

coronavirus के निशुल्क इलाज और परीक्षण संबधी याचिका खारिज

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को केंद्र और सभी राज्यों व केन्द्रशासित प्रदेशों को निशुल्क coronavirus उपचार और परीक्षण संबंधी याचिका खारिज कर दी है। दरअसल याचिकाकर्ता ने कोर्ट में अपील की थी कि वायरस के प्रसार को रोकने और नागरिकों को गुणवत्तापूर्ण उपचार और देखभाल प्रदान करने के लिए स्वास्थ्य सुविधाएं मुफ्त दी जानी चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की बेंच ने मंगलवार को इस याचिका पर विडियो कांफ्रेंसिग के जरिए सुनवाई की और कहा कि यह सरकार को तय करना है कि किसे मुफ्त इलाज देना है और इसके लिए सुप्रीम कोर्ट के पास कोई धन नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यहाँ “पब्लिसिटी इंटरेस्ट लिटिगेशन न लगाएं.”

सुनवाई के दौरान पाया कि देश भर के सरकारी अस्पताल कोरोना वायरस संक्रमित रोगियों का मुफ्त इलाज कर रहे हैं। तीन जजों की पीठ ने कहा कि “हमें लगता है कि इस मामले को बंद करना चाहिए.” दिल्ली के एक वकील अमित द्विवेदी द्वारा यह याचिका दायर की गई थी। जिन्होंने कोविड -19 बीमारी के दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं के संबंध में अधिकारियों से परीक्षण, सभी बाद के परीक्षणों, प्रक्रियाओं और निः शुल्क उपचार” के लिए एक दिशा निर्देश की मांग की थी।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*