Chhattisgarh Private School Management Association,

लोक शिक्षण संचालनालय का आदेश निजी स्कूलों को खत्म करने वाला: छ.ग. प्रायवेट स्कूल एसोसिएशन

एसोसिएशन ने सीएम भूपेश बघेल को लिखा पत्र

रायपुर। लोक शिक्षण संचालनालय के संचालक ने रविवार को शाला त्यागी छात्रों को स्कूल वापस बुलाने और दस्तावेजों के अभाव में दाखिला देने का निर्देश जारी किया है। लोक शिक्षण संचालक के इस निर्देश का छत्तीसगढ़ प्रायवेट स्कूल एसोसिएशन (Chhattisgarh Private school association) ने विरोध करना शुरू कर दिया है।

एसोसिएशन (Chhattisgarh Private school association) ने निर्देश के विरोध में सीएम भूपेश बघेल को पत्र लिखा है और संचालक के निर्देश को रद्द करने की मांग की है। एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश गुप्ता और सचिव मोती जैन ने सीएम को पत्र लिखते हुए बताया, कि संचालक का निर्देश छोटे स्कूलों के असितत्व को खत्म कर देगा। गांव-कस्बे में शिक्षा का प्रसार करने वाले निजी स्कूल बंद हो जाएंगे।

स्कूलों का बंद होना तय

छात्र फीस नहीं जमा करके दस्तावेजों की कमी के बाद अन्यत्र प्रवेश ले लेंगे और फीस ना मिलने के अभाव में स्कूलों का बंद होना तय है। एसोसिएशन (Chhattisgarh Private school association) ने संचालक का आदेश छत्तीसगढ़ शिक्षा संहिता के खिलाफ बताया है। एसोसिएशन का कहना है, कि प्रदेश के निजी स्कूलों में लगभग 2 लाख 50 हजार से ज्यादा कर्मचारी है। इस तरह के आदेशों से स्कूल बंद होगा और कर्मचारियों को अपना परिवार चलाना मुश्किल होगा। संचालक के एकपक्षीय आदेश को रद्द करने की मांग एसोसिएशन ने की है।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*