csvtu university chhattisgarh

अब भिलाई-दुर्ग के 119 कोचिंग 50 फीसदी स्टाफ के साथ खुलेंगे, ऑनलाइन पढ़ाएंगे

दुर्ग . जेईई, नीट और पीईटी सहित (coaching) तमाम प्रवेश परीक्षाओं की तैयारियों में जुटे ट्विनसिटी के करीब 4 हजार विद्यार्थियों को पढ़ाई के लिए परेशान नहीं होना पड़़ेगा। कोचिंग संचालक उनकी कक्षाएं ऑनलाइन माध्यम से लगाएंगे। इसके लिए कुछ कोचिंग संचालक ने अपना खुद का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (coaching) ऐप डेवलप कराया है। जबकि अधिकतर ऑनलाइन कक्षाएं जूम, गूगल क्लास या गूगल डूओ ऐप के जरिए लगाई जाएगी।

ये भी पढ़े बालोद में कोरोना पॉजिटिव मिलने का पहला मामला

दुर्ग जिला कलेक्टर ने इसकी अनुमति दी है। कोचिंग संचालकों से कहा गया है कि वे कोचिंग में विद्यार्थियों को नहीं बुला पाएंगे। कोचिंग में सिर्फ 50 फीसदी फैकल्टी व स्टाफ ही मौजूद रहकर ऑनलाइन कक्षाएं लगाएगा। (coaching) बता दें कि कोविड-19 वायरस की वजह से कोचिंग संस्थान बंद किए गए हैं, लेकिन उनको ऑनलाइन क्लासेस लगाने की मंजूरी जरूरी दे दी गई है।

ट्विनसिटी में 119 से ज्यादा कोचिंग

ट्विनसिटी के हार्ट सिविक सेंटर में ही करीब 50 कोचिंग संस्थान है, जिनमें करीब 3000 विद्यार्थी पढ़ते हैं। इनमें से कुछ ऐसे कोचिंग भी हैं, जिनमें विद्यार्थियों की संख्या हजार पार है। कोरोना लॉकडाउन की वजह से उनकी पढ़ाई बाधित हो रही है। हाल ही में कोचिंग संचालकों ने कलेक्टर को ज्ञापन दिया था कि उन्हें ऑफिस खोलने की मंजूरी दी जाए ताकि वे विद्यार्थियों को कनेक्ट कर ऑनलाइन क्लास शुरू करा सकें।

ये भी पढ़े खिलाडिय़ों के लिए फ्लड लाइट से रोशन होगा हुडको इस्पात क्लब, रात में भी प्रैक्टिस

मंजूरी मिलने के साथ ही शुक्रवार से कक्षाओं का (coaching) संचालन शुरू हो जाएगा। कोचिंग संचालकों ने इसकी तैयारी भी शुरू कर ली है। भिलाई-दुर्ग में १३० से ज्यादा छोटे-बड़े कोचिंग चल रहे हैं, जिनमें करीब 5000 विद्यार्थी अध्ययन करते हैं।

प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी भी

भिलाई-दुर्ग में हाल ही के कुछ साल में प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए संचालित कोचिंग संस्थानों में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ी है। प्रशासन के इस फैसले उन हजारों विद्यार्थियों को भी फायदा होगा जो व्यापमं या पीएससी जैसी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं। ट्विनसिटी में ऐसे करीब ३५ कोचिंग संस्थान जारी है।

देश दुनिया की तमाम ताजा खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*