muslim graves sanitized

कोरोना से मरने वाले मुसलमानों की कब्र होगी सेनेटाइज, गुसल नहीं होगा

दिल्ली . कोरोना वायरस ने मुस्लिम समुदाय की नींद उड़ा दी है। पूर्व में एक आदेश जारी किया गया था कि कोरोना से मरने वाले को दफनाया नहीं जाएगा, बल्कि उन्हें जलाया जाए। ये बात सामने आते ही देशभर के उलेमाओं की तरह से विरोध भी जताया गया। muslim graves sanitized मुस्लिम उलेमाओं ने कहा है कि इस्लाम शव को जलाने की इजाजत नहीं देता। सरकार को इस बारे में सोचना चाहिए।

जानिए… मस्जिदों के इमामों का क्या है कहना

  • कोरोना वायरस से किसी मुस्लिम की मौत होती है तो शव को समान्य तौर पर जिस तरह से नहलाया जाता है वैसा कोरोना से मरने वालों को नहीं नहलाया जाएगा।
  • मरने वाले के शव को पॉलिथीन में पैक करके ऊपर से पानी बहा दिया जाएगा और उस पर नमाज पढक़र दफना दिया जाएगा।
  • अमेरिका, चीन, इटली जैस देशों में कोरोना से मरने वालों को जलाया नहीं जा रहा बल्कि दफनाया जा रहा है।
  • निजी सुरक्षा उपकरणों का समुचित इस्तेमाल करने का सुझाव दिया है।

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने क्या कहा…

  • मुस्लिम शव को जलाना वाजिब नहीं है। इसे समाज भी स्वीकार नहीं कर सकता।
  • सरकार बताए कि सुरक्षा के लिहाज से कब्र को कितना गहरा खोदा जाए ताकि उससे संक्रमण न रहे।
  • कब्रिस्तान ले जाने से पहले अभेद्य बॉडी बैग में पूरी तरह सील करने की सिफारिश

क्या है विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइडलाइन

डब्लूएचओ ने गाइडलाइन जारी कर कहा है कि शव को जलाया और दफनाया दोनों जा सकता है। धर्म की मान्यता के तहत यदि शव को दफनाया जाना है तो उसका पालन कर सकते हैं। धार्मिक भावनाओं का ख्याल रखना भी जरूरी है। muslim graves sanitized डब्लूएचओ शव को संभालने वालों के लिए नष्ट किए जा सकने वाले लंबे आस्तीन के कफ वाले गाउन पहनने होंगे। शव के बाहरी हिस्से पर बॉडी फ्लूइड्स, मल या कोई स्त्राव दिखाई दे रहा हो तो गाउन वॉटरप्रूफ होना चाहिए।

कोरोना लॉकडाउन : अब एटीएम मशीन से भी होगा jio mobile recharge

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*