mp sunil soni

धमतरी की कथित मॉकड्रिल पर सांसद सोनी ने भूपेश सरकार को घेरा

एम्स को अपनी श्रेष्ठता के लिए कलेक्टर के प्रमाणपत्र की आवश्यकता नहीं

रायपुर. धमतरी में हुई कोरोना मॉकड्रिल पर बीजेपी सांसद ने राज्य सरकार पर टिप्पणी (MP Soni commented ) की है। बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष और रायपुर सांसद ने धमतरी हुई में मॉकड्रील पर भूपेश सरकार को घेरा है।

ये भी पढ़े : Rishi Kapoor funeral in lockdown: मुम्बई में हुआ ऋषि कपूर का अंतिम संस्कार

सांसद सोनी ने धमतरी जिला प्रशासन द्वारा बुधवार को किए गए मॉकड्रिल पर कड़ा एतराज जताया है। उन्होंने मॉकड्रील को एम्स प्रबंधन और कोरोना संक्रमितों की सेवा-सुश्रुषा में जुटी टीम के साथ क्रूर मजाक बताते। उन्होंन कहा कि धमतरी जिला प्रशासन के इस कृत्य पर राज्य सरकार को एम्स प्रबंधन और स्वास्थ्य टीम से बिना शर्त हाथ जोड़कर (MP Soni commented ) क्षमायाचना करनी चाहिए।

डॉक्टर्स का एक-एक मिनट कीमती

सांसद सोनी (MP Soni commented ) ने कहा कि कोरोना संक्रमण के खिलाफ जारी जंग में इलाज कर रहे डॉक्टर्स का एक-एक मिनट बेहद कीमती है। धमती जिला प्रशासन की ये नौटंकी करना समझ से परे है।

ये भी पढ़े : प्रदेश में तीन नए कोरोना पॉजीटिव मरीज मिले, 6 की जांच निगेटिव

सांसद सोनी ने कहा कि अपनी विफलताओं की खिसियाहट में राज्य सरकार कोरोना संक्रमितों के सफल उपचार में एम्स की उपलब्धि को पचा नहीं पा रही है। राज्य सरकार प्रतिशोधवश शायद वह अब इस तरह के हथकण्डे अपनाकर खम्भे नोच रही है।

संस्था को प्रमाण पत्र की आवश्कता नहीं

सांसद सोनी ने कहा कि एम्स अपने आपमें राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर का ख्यातिप्राप्त चिकित्सा संस्थान है। अपनी इस ख्याति के लिए उसे किसी मॉकड्रिल के प्रमाणपत्र की आवश्यकता नहीं है। यह वही छत्तीसगढ़ सरकार है, जिसने एम्स के डॉक्टर्स और स्वास्थ्य टीम को रातो-रात एक होटल से बेदखल कर दिया। डॉक्टरों के रहने और खाने-पीने का समुचित प्रबंध करना जरूरी नहीं समझा। यह सरकार अब एम्स की तैयारियों का जायजा लेने मॉकड्रिल जैसा भद्दा मजाक कर रहे हैं।

राज्य सरकार का योगदान नहीं

सांसद सोनी ने कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम में राज्य सरकार का अपना तो कोई योगदान नहीं है। सीएम भूपेश बघेल और उनके किसी भी मंत्री ने एम्स जाने की आज तक कोई जरूरत महसूस नहीं की है।

ये भी पढ़े : ACB Action: रेलवे के स्वास्थ्य अधिकारी को एसीबी ने किया गिरफ्तार

वहां के प्रबंधन व चिकित्सकीय टीम का हौसला उन्होंने नहीं बढ़ाया है। कोरोना की जंग में सफलतापूर्वक डटे चिकित्सा संस्थान एम्स के योगदान और उसकी तैयारियों पर प्रमाण पत्र देने का नैतिक अधिकार नहीं है। छत्तीसगढ़ में जितने भी कोरोना संक्रमित ठीक होकर वापस अपने घर लौटे हैं, वह एम्स की शानदार उपलब्धि है। प्रदेश सरकार ने एम्स को कोई मदद नहीं की है।

अपने मिया मिट्‌ठू बन रही राज्य सरकार

सांसद सोनी ने कहा राज्य सरकार ट्वीट करके रोज अपने मुँह मियाँ मिठ्ठू बन रही है। राज्य सरकार और उसके नौकरशाहों का ड्रिल का यह घोर निंदनीय कृत्य करना शोभा नहीं देता। सांसद सोनी ने इस कथित ड्रिल के दोषियों के खिलाफ कड़ी कारवाई करते हुए, कांग्रेस सरकार से क्षमा याचना की मांग की है।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*