Month-e-Ramadan: The month passed in prayer, today if the moon shows, tomorrow will be Eid

माह-ए-रमजान : ईबादत में गुजरा महीना, आज चांद दिखा तो कल होगी ईद

रायपुर . मुस्लिम समुदाय के लोगों ने शुक्रवार को अलविदा (Eid mubarak) जुमा की नमाज अपने घरों में ही अदा की। कोरोना संक्रमण की वजह से मस्जिदें सूनी रहीं। इसके साथ ही अब रमजान अपने आखिरी मकाम पर पहुंच गया है। लोगों को चांद का इंतजार रहेगा। इस रमजान में कोरोना लॉकडाउन की वजह से लोगों ने अपने घरों को ही इबादतगाह बना लिया। इसके साथ ही शहर मस्जिद ने बताया है कि यदि 29 रमजान का चांद 23 मई को नजर आ गया तो ईदुलफित्र 24 मई को होगी नहीं तो 30 रोजे पूरे होने के बाद 25 मई को ईदुलफित्र मनाई जाएगी।

ये भी पढ़े – प्रदेश में खुलने वाली अंग्रेजी माध्यम स्कूलों के प्राचार्य नियुक्त, बनेगी सोसाइटी

चांद नजर आए तो कीजिए इत्तला

ईद के लिए इस बार विशेष इंतजाम किया गया है। (Eid mubarak) मस्जिद कमेटियों ने वॉट्सऐप और फेसबुक के जरिए अपीलें जारी की गई हैं। इस बार 29 वां रोजा 23 जून को रहेगा। अक्सर 29 का चांद नजर आने की संभावनाएं रहती हैं, इसलिए मुस्लिम समुदाय की नजरें 23 मई की शाम को आसमान पर टिकी रहेंगी। मस्जिद कमेटियों की तरफ से भी चांद नजर आने पर सूचना जारी करने तैयारी कर ली गई है।

ये भी पढ़े – डीजीपी का करीबी बताकर आरक्षक ने आरक्षक को ठगा

जामा मस्जिद सेक्टर-6 के इमाम हाफिज इकबाल हैदर अंजुम ने बताया कि कमेटी की तरफ से भी चांद देखे जाने की तस्दीक करने इंतजाम किए गए हैं। इसके अलावा उन्होंने सभी लोगों से अपील की है कि अगर कहीं भी 29 रमजान का चांद नजर आए तो उनके मोबाइल नंबर 8720051418 पर तुरंत कॉल या वॉट्सऐप कर सकते हैं। (Eid mubarak) यदि किसी भी सूरत में 23 मई को चांद नजर नहीं आता है तो फिर 30 रोजे पूरे होने के बाद 25 मई को ईदुल फित्र मनाई जाएगी।

इस तरह मनाएं अपनी ईद

हाफिज इकबाल हैदर अंजुम ने नमाजे ईदुल फित्र को लेकर कहा कि इस मुश्किल घड़ी में हमारी सबसे बड़ी ईद यह है कि हम गरीबों और मिस्किनों का खयाल रखें। उनकी मदद करें। मोहताजों और जरूरतमंद को खाना खिलाएं। बेवाओं व यतीमों को मरहूमिन के नाम से पैसे दें। हो सके तो अपनी ओर से मुसाफिर को खाने का पैकेट तकसीम करें।

ये भी पढ़े – JIO का ये प्लान वर्क फ्रॉम होम के लिए बेहद कारगार

घर में पढऩी होगी ईद की नमाज

जामा मस्जिद सेक्टर-6 के ईमाम-खतीब हाफिज इकबाल हैदर अंजुम ने बताया कि लाकडाउन को देखते हुए ईद की नमाज 5 लोगों के साथ मस्जिद या ईदगाह में अदा की जाएगी। इसके ठीक बाद बाकी लोग अपने-अपने घरों में 2 रकअत या 4 रकअत नफ्ल नमाज शुक्रराने या चाश्त की नीयत से अकेले-अकेले अदा करेंगे। इसके लिए लोग अपने घरों में सुबह ७.१५ बजे के बाद से सुबह ११.२० से पहले तक नवाफिल नमाज अदा करें। इसके साथ ही कब्रिस्तान जाकर दुआ करने पर भी पाबंदी होगी।

देश-दुनिया की ताजा खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*