मैं खाद्यमंत्री का स्टाफ हूं.. कहो तो मंत्रालय में लगा दूंगा नौकरी, ये कहकर बेरोजगार से की लाखों की ठगी, पुलिस ने दो को दबोचा

रायपुर। तीन शातिर ठगों ने खुद को खाद्यमंत्री का स्टाफ और मंत्रालय में अधिकारियों से संबंध होने का झांसा देते हुए बेरोजगार से लाखों रुपए ठग लिए। इसकी शिकायत पर पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ अपराध दर्ज किया है। दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस के मुताबिक राजनांदगांव निवासी सुधीर कौमार्य ने मंडी निरीक्षक और फूड इंस्पेक्टर भर्ती परीक्षा का ऑनलाइन फार्म भरा था। उसके परिचित का राजकुमार पटेल विधायक विश्राम गृह में दैनिक वेतनभोगी के तौर पर काम करता था। उससे उसने अपनी नौकरी के संबंध में बातचीत की। राजकुमार ने उसे विधायक विश्राम गृह बुलाया। वहां अंशुल कुमार सोनी से उसकी मुलाकात कराई।

अंशुल ने खुद को खाद्यमंत्री के स्टाफ में काम करने की जानकारी दी। साथ ही उसे मंत्रालय में भाई के काम करने का झांसा भी दिया। इसके बाद तीनों ने मंडी निरीक्षक की नौकरी दिलाने के लिए 17 लाख रुपए की मांगे। इसके बाद सुधीर ने 5 लाख रुपए अंशुल को दिए। इसके बाद 21 मार्च को 3 लाख 15 हजार रुपए और दिए। कुछ दिनों बाद चयन सूची में सुधीर का नाम नहीं आया। इसके बाद उसने आरोपियों से अपनी रकम की मांग की। आरोपियों ने रकम देने से इनकार कर दिया।

इसकी शिकायत पर पुलिस ने अशोक सोनी और राजकुमार पटेल को गिरफ्तार कर लिया। दोनों आरोपियों को पुलिस ने जेल भेज दिया। अंशुल फरार है। बताया जाता है कि अंशुल कई लोगों को इसी तरह नौकरी लगाने का झांसा दे चुका है। कोतवाली पुलिस उसकी तलाश में लगी हुई है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*