Maharaja Ranjit Singh,

महाराजा रणजीत सिंह की पत्नी के आभूषण लंदन में नीलाम हुए

19वीं सदी की बेशकीमती कलाकृतियां में थे शामिल

लंदन। पंजाब के महाराजा रणजीत सिंह (Maharaja Ranjit Singh) की अंतिम पत्नी महारानी जिंदन कौर के बेशकीमती आभूषणों की लंदन में नीलामी हुई। ये आभूषण जिंदन कौर की बड़ी पोती प्रिंस बांबा सुथरलैंड के पास थे। महारानी के नीलाम हुए आभूषणों के एक सेट में स्वर्ण और रत्न जड़ित चांद टिक्का, मोतियों का हार और अन्य दुर्लभ जेवर शामिल हैं। इनकी 62,500 पाउंड यानी 60 लाख रुपये से ज्यादा में नीलामी हुई। लंदन के बोहमास इस्लामिक एंड इंडियन आर्ट सेल में आयोजित इन आभूषणों को खरीदने के लिए कई दावेदार आए।

अंग्रेजों को किया था प्रतिकार

जिंदन कौर ने अंग्रेजों के पंजाब पर कब्जे का कड़ा प्रतिकार किया था, लेकिन आखिरकार उन्हें भी आत्मसमर्पण करना पड़ा था। उसके बाद लाहौर स्थित महाराजा (Maharaja Ranjit Singh) के खजाने से 600 से ज्यादा आभूषण जब्त कर लिए गए थे। महारानी को 1848 में नेपाल भागने से पहले कारागार में डाल दिया गया था। बोहमास सेल ने नीलाम की जा रही ज्वेलरी के साथ यह ऐतिहासिक ब्योरा दिया है। नीलामी में 19वीं सदी की कई अन्य बेशकीमती कलाकृतियां व आभूषण आदि भी शामिल हैं।

बड़ी बेटी के पास थे आभूषण

नीलामीकर्ता फर्म के प्रमुख ऑलिवर व्हाइट के अनुसार महारानी जिंदन कौर के ये आभूषण ब्रिटिश सरकार (Maharaja Ranjit Singh) ने उन्हें तब वापस लौटा दिए थे, जब उन्होंने अपने बेटे दुलीप सिंह के साथ लंदन में रहना कबूल कर लिया था। हालांकि युवराज दुलीप सिंह संयोग से लाहौर लौट गए थे, लेकिन उनकी बड़ी बेटी बांबा इंग्लैंड में ही रहीं, जहां वह जन्मी व पली-बढ़ीं। बांबा ने ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और अमेरिका के मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई की थी।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*