majdoor

Lockdown Effect In CG: लॉकडाउन की सख्ती में सेंध लगाकर रायपुर से बागबहारा पहुंचे मजदूर, पुलिस ने भेजा राहत कैंप

मजदूरों की आपबीती सुनकर पुलिस ने भेजा राहत कैंप में

रायपुर. lockdown Effect In CG : छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन होने की वजह से, मजदूरो ने गृह ग्राम पलायन करना शुरु कर दिया है। रायपुर के टिंबर मार्केट में काम करने वाले मजदूर पैदल ही अपने घर ओडिशा के लिए रवाना हो गए।

यह भी पढ़े: विभागीय सचिव और विभागाध्यक्षों के लिए नया गाईडलाईन, घर में रहकर करेंगे काम

रायपुर से 100 किलोमीटर दूर, बागबहारा में पुलिस ने उन्हें रोका, उनकी समस्या सुनकर राहत कैंप में भेजा है। मजदूरों ने बताया, कि टिंबर मार्केट बंद होने की वजह से रोजी रोटी का संकट आ गया है। मजदूर वापस अपने गांव वापस जाने के लिए शनिवार रात 11बजे रायपुर से  निकले थे।

सख्त निगरानी की खुली पोल

चौंकाने वाली बात यह है कि लॉक डाउन में सख्त निगरानी के बाद भी आठे मजदूर बागबहरा तक पहुंच गए। बतादें कि इसी तरह प्रदेश में हजारों मजदूर अलग-अलग जगहों पर फंसे हुए हैं। वैसे तो प्रदेश सरकार ने ऐसे मजदूरों को लिए पर्याप्त व्यवस्था कर रखी है। लॉकडाउन में (lockdown Effect In CG) हेल्प लाइन नंबर भी जारी किया जा चुका है। असल मायने में इसका लाभ उन्हें नाम मात्र का ही मिल रहा है।

लॉक डाउन 30 अप्रैल तक बढऩे की तैयारी

केंद्र सरकार लॉक डाउन 30 अप्रैल तक करने की तैयारी कर रही है। इसके लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने भी सहमति जताई है। ऐसे में अलग-अलग इलाकों में फंसे मजदूरों के लिए संकट आ सकता है। बतादें कि प्रदेश में अब परिवहन की अनुमति सिर्फ रसूखदारों को ही मिल रही है।

बार्डर में चल रहा है आयात निर्यात का खेल

शासन (lockdown Effect In CG) ने राज्य और जिले के बार्डर में सख्त निगरानी का आदेश दिया है। इसके बाद भी लोग बार्डर पार कर रहे हैं। इसी तरह के एक मामले में राजनांदगांव के कुछ पुलिस अधिकारियों को निलंबित भी किया गया है।

पैदल अपने राज्यों को जाने निकले मजदूर

3 दिनों तक भूख और प्यास को सहकर पैदल रायपुर से बनारस,व चिरमिरी पैदल जा रहे बीस मजदूरों अपनी तकलीफ बताई। मजदूरों ने बताया कि कुछ रायपुर तो कुछ लोग कोरिया में रहकर मजदूरी कर रहे थे। उन्हें समझाइश देकर फैक्ट्री से निकाल दिया गया इसलिए वो अपने गांव पैदल ही जा रहे हैं।

यह भी पढ़े: टीवी के सामने बैठकर कीजिए नीट और जेईई की तैयारी, एक्सपर्ट देंगे जवाब

मोगरा ओवर ब्रिज के काम पर लगे मजदूर भी पैदल ही शहडोल जाने के लिए निकल गए। शिवप्रसाद,राजकिशोर ने बताया कि हम 26 मजदूर हैं। काम बंद होने की वजह से दिक्कत है। कम से कम अपने गांव में रहेंगे तो बीमारी में परेशानी नही होगी, शहडोल की दूरी 200 किलोमीटर से ज्यादा है रास्ते में कोई साधन मिला तो ठीक वर्ना पैदल ही चले जाएंगे।

देश-प्रदेश की खबरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*