Lockdown In CG,

Lockdown 2.0: उज्जैन, इंदौर और भोपाल में सख्ती बरतेगी शिवराज सरकार

सीएम शिवराज सिंह ने समीक्षा बैठक में दिए निर्देश

भोपाल. Lockdown 2.0: केंद्र सरकार ने 3 मई तक लॉकडाउन करने का निर्देश दिया है। केंद्र सरकार के निर्देश मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने इसमें अमल लाना शुरु कर दिया है। लॉकडाउन 2.0 के मद्देनजर सीएम शिवराज सिंह ने मंगलवार को प्रशासनिक अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की।

यह भी पढ़े: Corona Effect In MP: मध्य प्रदेश के किसानों की आर्थिक स्थित मजबूत करने शिवराज सरकार खरीदेगी गेंहू

समीक्षा बैठक में  उज्जैन, इंदौर और भोपाल में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या ज्यादा मिलने पर चर्चा हुई। समीक्षा बैठक में सीएम शिवराज सिंह ने  उज्जैन, इंदौर और भोपाल में सख्ती करने का निर्देश दिया है। सीएम के निर्देश का बुधवार से प्रशासनिक अधिकारियों ने पालन करना शुरू कर दिया है।

12 घंटे खुलेगी सरकारी उचित दुकाने

बैठक (Lockdown 2.0) में सीएम शिवराज सिंह ने प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं और आवश्यक वस्तुओं की अपलब्धता पर ध्यान देने का निर्देश दिया है। निम्न वर्ग के लोगों को खाद्य सामग्री देने के लिए शासकीय उचित मूल्य की दुकानों कावे 12 घंटे खुली रखने का निर्देश दिया है। वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से सीएम शिवराज सिंह ने निर्देश जारी किए है। संभाग आयुक्त और जमीनी स्तर पर कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे, अफसरों को प्रदेशवासियों की सुविधाओं को ध्यान देने का निर्देश दिया है। 

कोरोना से लड़ने शिवराज सरकार ने बनाई रणनीति

कोरोना संक्रमण का प्रभाव मध्यप्रदेश में कम हो सके, इसलिए शिवराज सरकार ने रणनीति बनाई है। शिवराज सरकार (Lockdown 2.0) आईडेंटीफिकेशन, टेस्टिंग और ट्रीटमेंट के मूल मंत्र में काम कर रही है। टेस्टिंग की क्षमता बढ़ाई गई है। सैंपलों को जांच के लिए दूसरे राज्यों को रवाना किया गया है।

यह भी पढ़े: MP Corona Update: इंदौर में दो की मौत कोरोना से, उज्जैन में सात साल के बच्चे समेत दो मरीज मिले

शिवराज सरकार ने मध्य प्रदेश के 23 अस्पतालों में कोरोना संक्रमण के पुखता इलाज करने की व्यवस्था की है। प्रदेशवासियों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़े, इसलिए सरकार द्वारा आर्युवेदिक दवाओं का वितरण भी किया जा रहा है। 

गैस राहत अस्पताल में नहीं होगा कोरोना का इलाज

भोपाल के गैस राहत अस्पताल में अब कोरोना जांच नहीं हो सकेगी। जिलेवासियों की मांग पर शिवराज सरकार ने गैस अस्पताल को कोरोना जांच करने से मुक्त कर दिया है। गैस अस्पताल में अब सामान्य मरीजों का उपचार हो सकेगा। भोपाल में मंगलवार को उपचार के अभाव में मौत होने के बाद शिवराज सरकार ने यह फैसला लिया है। 

देश प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*