संगीतनगरी खैरागढ़ की धरती में 51 वर्ष की उम्र में लता दीदी को दी गई थी डी-लिट की उपाधि

राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ की संगीतनगरी खैरागढ़ की धरती उस दिन धन्य हो गई थी जब लता मंगेश्कर (LATA MANGESKAR) ने वहां अपना कदम रखा था। अवसर था इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह का। नौ फरवरी 1980 को खैरागढ़ में डी-लिट की उपाधि प्रदान की गई थी। तब लता की उम्र 51 वर्ष थी।

लता मंगेशकर को अपने बीच पाकर न केवल संगीतनगरी, बल्कि अविभाजित मध्यप्रदेश के कोने-कोने से पहुंचे संगीतप्रेमियों ने भी खुद को धन्य महसूस किया था। उन्हें देखने व सुनने के लिए दीक्षांत समाारोह में लोगों को खचाखच भीड़ जुटी थी। समारोह में तला मंगेशकर के साथ उस समय भरत नाट्यम की प्रख्यात नृत्यांगना रूखमणि देव अरूंडेल व कर्नाटिका गायन की प्रसिद्ध गायिका एमएस सुब्बा लक्ष्मी को भी उस दीक्षांत समारोह में विश्वविद्यालय ने डी-लिट की मानद उपाधि प्रदान की थी। तब विश्वविद्यालय के कुलपति थे अरुणकुमार सिंह।

डी.लिट्ट की मानद उपाधि से विभूषित किया गया

देश और दुनिया में स्वर कोकिला (LATA MANGESKAR) के नाम से सुविख्यात, भारतरत्न दिवंगत लता मंगेशकर का छत्तीसगढ़ के खैरागढ़ स्थित इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय से पुराना और गहरा नाता रहा है। वे इस विश्वविद्यालय को कला और संगीत के लिए गुरुकुल की दृष्टि से देखती थीं। वे यहां दो फरवरी 1980 को आयीं थीं। उन्हें इस विश्वविद्यालय से डी.लिट्ट की मानद उपाधि से विभूषित किया गया था।

ममता ने लता दीदी को परोसी थी कढ़ी

वर्तमान में इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय की कुलपति, प्रख्यात लोक गायिका पद्मश्री ममता चंद्राकर उन दिनों इस विश्वविद्यालय में शास्त्रीय संगीत (गायन) विषय से एमए की छात्रा थींं। उस प्रवास के दौरान अतिथियों को छात्र-छात्राओं ने भोजन परोसा था। भोजन परोसने वालों में ममता चंद्राकर भी शामिल थीं। ममता चंद्राकर ने लता जी को कढ़ी परोसा था। स्वरकोकिला ने चाव के साथ कढ़ी का आनंद लिया था।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*