Kushabhau Thackeray, Journalism University, New vice chancellor, The appointment, Ruckus,

हंगामे के बीच पत्रकारिता विश्वविद्यालय के नए कुलपति ने किया ज्वाइन

एनएसयूआई ने किया जमकर हंगामा- अभविप और बीजेपी पदाधिकारियों की
मौजूदगी में पदभार ग्रहण- बवाल की आशंका से विश्वविद्यालय परिसर में पुलिस बल तैनात

रायपुर। कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय  में नए कुलपति की नियुक्ति को लेकर राजनैतिक गलियारे से विश्वविद्यालय तक बवाल मचा हुआ है। राज्य सरकार नियुक्ति के विरोध में एक ओर राज्यपाल का विरोध कर रही है तो दूसरी ओर गुरूवार को विश्वविद्यालय ज्वाइनिंग देने पहुंचे कुलपति बलदेव भाई शर्मा को एनएसयूआई का विरोध झेलना पड़ा।

आरएसएस पृष्ठभूमि के प्रो. बलदेवभाई शर्मा के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए एनएससूआई के पदाधिकारियों और कार्यकर्ता ने विश्वविद्यालय के मुख्यद्वार में धरना दिया। सुरक्षा गार्ड और पुलिस की सख्ती से प्रो.शर्मा जब विश्वविद्यालय के अंदर बने प्रशासनिक भवन में पहुंचे तो वहां एनएसयूआई के पदाधिकारी और

कार्यकर्ताओं ने जमीन में बैठकर हंगामा किया। हंगामा होता देख प्रो.शर्मा वापस चले गए और  शाम ५ बजे अभविप और भाजपा पदाधिकारियों के साथ विश्वविद्यालय वापस लौटे, और पदभार ग्रहण किया। हंगामा के मद्देनजर विश्वविद्यालय परिसर में बड़ी संख्या मंे पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था। किसी तरह की अव्यवस्था ना फैले इसलिए २ सीएसपी सहित ४ थानों के निरीक्षक अपने फोर्स के साथ दिनभर जुटे रहे।

छात्रों की पढ़ाई रह ठप

विश्वविद्यालय परिसर में हंगामा होने की वजह से गुरुवार को छात्रों की पढ़ाई ठप रही। हॉस्टल और कक्षाओं से सभी छात्रों को बुलाकर प्रदर्शनकारियों ने शामिल होने का निर्देश दिया। हंगामे के बीच दोपहर को बाद विश्वविद्यालय परिसर में अभविप का गुट पहुंचने से तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई। विश्वविद्यालय परिसर के अंदर घुसने की जद्दोजहद में नियुक्ति के पक्ष और विपक्ष में प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों ने मुख्यद्वार को तोड़ दिया। छात्रों का उग्र रूप देखकर सुरक्षाकर्मी और पुलिसकर्मियांे ने उन्हें रोकने की कोशिश नहीं की।

७ घंटे मचा रहा बवाल

प्रो. शर्मा गुरूवर को पदभार ग्रहण करेंगे, इस बात की जानकारी प्रदर्शनकारियों को बुधवार को हो गई थी। सुनियोजित तरीके से एनएसयूआई के पदाधिकारी और कार्यकर्ता सुबह १० बजे से ही काठाडीह स्थित कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय परिसर में जुटने लगे। सुबह १०.३० बजे प्रो. बलदेवभाई शर्मा की गाड़ी विश्वविद्यालय के मुख्यद्वार में पहुंची तो प्रदर्शनकारियों ने रोक लिया और नारेबाजी शुरू कर दी। हंगामा होते देखकर प्रो. शर्मा दोपहर २ बजे वापस चले गए और शाम ५ बजे दोबारा भाजपा नेताओं और अभविप पदाधिकारियों के साथ विश्वविद्यालय पहुंचे। शाम ५.३० बजे विश्वविद्यालय स्टाफ एवं बीजेपी-अभविप पदाधिकारियों की मौजूदगी में पदभार ग्रहण किया और उन्ही लोगों के साथ वापस लौट गए। विश्वविद्यालय प्रबंधन ने कुलपति द्वारा पदभार ग्रहण करने की जानकारी प्रेस विज्ञप्ति जारी करके दी है। कुलपति का विरोध करने वाले और विश्वविद्यालय की संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों पर क्या कार्रवाई की जाएगी? इस बात की जानकारी देने से प्रबंधन बच रहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*