Iqbal Ahmed Rizvi,

करोड़ो का फर्जी वाउचर बनाने वाला फिर बना वक्फ बोर्ड का CEO – रिजवी

विभागीय अनुमति के बिना सीईओ की प्रतिनियुक्ति अवैधानिक

रायपुर. इकबाल अहमद रिजवी (Iqbal Ahmed Rizvi) ने छत्तीसगढ़ वक्फ बोर्ड के भाजपा शासन में हुए काले कारनामों की ओर मुख्यमंत्री, विभागीय मंत्री तथा मुस्लिम जामात का ध्यान आकर्षित करते हुए कहा है कि भाजपा शासन काल में वक्फ सम्पत्ति की अफरा तफरी, घालमेल तथा खरीद फरोख्त का खेल खेला गया उसका कोई सानी नहीं है। आश्चर्य की बात तो यह है कि इस अपराधिक कृत्य में संलिप्त आरोपित बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष एवं तत्कालीन एवं वर्तमान सी.ई.ओ. पशु चिकित्सक को अब शेष वक्फ सम्पति की बंदर बांट करने की खुली छुट मिल गई है।

ये अनिमियतता का उदाहरण

इकबाल अहमद रिजवी (Iqbal Ahmed Rizvi) ने ध्यान आकर्षित करते हुए प्रशासनिक अनिमियतता का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए बताया है कि पशु चिकित्सक साजीद अहमद फारुकी सी.ई.ओ. के पद पर लगभग 13 वर्षो से अपात्रता के बावजूद पुनः पदस्थ किये गए है।

उनकी प्रतिनियुक्ति हेतु विभागीय स्वीकृत नहीं ली गई है। उनके उपर अन्य अनियमितताओं के साथ साथ नौ करोड़ के फर्जी वाउचर एवं बिलासपुर चांटापारा स्थित वक्फ सम्मति को नियम विरुद्ध जाकर एक करोड़ बीस लाख तेईस हजार पांच सौ रुपये में बिलासपुर सेन्टर पाईंट होटल में निलामी न करके वोर्ड के रायपुर स्थित कार्यालय में प्रायोजित तरीके से चुपके चुपके छत्तीसगढ़ शिक्षा समिति जो आर.एस.एस. से संबंधित है के नाम नीलाम कर दी गई है। रिजवी (Iqbal Ahmed Rizvi) ने कहा कि ऐसे करने वाले सी.ई.ओ. के विरुद्ध शिकायतों का अंबार है, की जांच विभागीय सचिव डी.डी. सिंह द्वारा न किया जाना उनकों शंका की परीधि में स्वंमेव खड़ा कर देता है।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*