In web series told to lawyers, thieves, looters and rapists, demand for ban on broadcasting

वेब सीरीज में वकीलों को बताया चोर, लूटेरे और रेपिस्ट, प्रसारण पर रोक की मांग

रायपुर . वेब सीरीज web series प्लेटफार्म नेटफ्लिक्स की ‘हसमुख’ के लिए मंगलवार को दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। इसमें नेटफ्लिक्स की वेब सीरीज हसमुख को प्रसारित करने पर अंतरिम रोक लगाने से इनकार कर दिया गया है। दरअसल, एक शख्स से कोर्ट में याचिका लगाई थी कि इस वेब सीरीज का कंटेंट वकीलों की छवि को खराब करने वाला है। इससे उनके पेश का आघात होगा। हाईकोर्ट की दखल के बाद यह बात साफ हो गई है कि सीरीज पर रोक नहीं लगाई जाएगी। जस्टिस संजीव सचदेवा ने वकील आशुतोष दुबे की याचिका को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि web series हसमुख के प्रसारण पर हमेशा के लिए रोक लगाने की मांग करने वाली याचिका पर जुलाई में सुनवाई होगी।

ये भी पढ़े किराया न मिला तो 5 युवतियों को ही बंधक बना लिया, न ही घर जाने की दी इजाजत

इस याचिका को एडवोकेट श्रीकृष्णा राजगोपाल ने दायर किया था, जिसमें उन्होंने मांग की है कि या तो इस web series सीरीज के प्रसारण पर रोक लगाई जाए या फिर चुनिंदा कंटेंट को हटाया जाए। उन्होंने कहा कि सीरीज में कई सीन बेहुदे हैं, खासकर चौथे एपीसोड पर एतराज जताया गया है। इस पार्ट में वकीलों के पेशे पर वार किया गया है। उनका कहना है कि चौथे एपीसोड में वकीलों को चोर, लुटेरे, गुंडे और रेपिस्ट के तौर पर दिखाया गया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*