IAS Janak Prasad Pathak,

IAS जनक प्रसाद पाठक को सीएम बघेल ने किया निलंबित

प्रमुख सचिव को दिए जांच करने के निर्देश

दुष्कर्म का आरोप लगने के बाद की कार्रवाई

रायपुर. 32 वर्षीय महिला द्वारा रेप का आरोप लगाने के बाद IAS जनक प्रसाद पाठक (IAS Janak Prasad Pathak) को राज्य सरकार ने निलंबित कर दिया है। आईएएस को निलंबित करने के साथ ही मामलें में सख्त जांच करने का निर्देश राज्य सरकार ने दिया है। सीएम भूपेश बघेल ने इस मामलें में कडा रूख अख्तियार कर लिया है। मुख्य सचिव को मामलें में जांच करने का निर्देश सीएम बघेल ने दिया है।

यह भी पढ़े: छत्तीसगढ़ में आवासीय मकानों के पंजीयन शुल्क में 2 प्रतिशत की छूट

एसपी से की थी पीड़िता ने शिकायत

जांजगीर चांपा पुलिस अधीक्षक नेहा चंपावत के पास कलेक्टर जनक प्रसाद पाठक (IAS Janak Prasad Pathak) की शिकायत एनजीओ संचालिका ने बुधवार को की थी। 32 वर्षीय एनजीओ संचालिका ने आरोप लगाया था, कि जाजंगीर-चापा में कलेक्टर रहने के दौरान आईएएस पाठक ने काम दिलाने का लालच दिया और चेंबर में उसके साथ संबंध बनाए। डेढ़ माह बाद भी काम नहीं मिलने पर उसने आईएएस पाठक से दूरी बना ली, तो धमकी देने लगे। कलेक्टर पीड़िता से उसके प्रायवेट पार्ट की फोटो मांगते थे और अपनी फोटो उसे भेजते थे। पीड़िता ने शिकायत करने के साथ, पुलिस अधीक्षक को वाइस क्लिप और मैसेज का स्क्रीन शॉट भी दिया है।  

यह भी पढ़े: भारत में फैला कोरोना वायरस अलग तरह का: सीसीएमबी

पति को नौकरी से निकालने की दी धमकी

पीड़िता ने बताया, कि आईएएस पाठक ने अपनी मनमानी करने के बाद भी जब उसे काम नहीं दिलाया,तो उसने उससे दूरियां बना ली। महिला के बदले व्यवहार को देखकर आईएएस पाठक (IAS Janak Prasad Pathak) ने उसको बर्बाद करने और पति को नौकरी से निकालने की धमकी दी। कलेक्टर की धमकियों से पीड़िता ने मामलें की शिकायत नहीं की। कलेक्टर का ट्रांसफर होने के बाद, पीड़िता ने शिकायत करने की हिम्मत जुटाई और एसपी माथुर के पास पहुंचकर आपबीती बताई।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*