Help In lockdown: बेटा और बहू ने बढ़ाया मदद करने के लिए हाथ

लॉक डाउन में पीडि़तों का किया दान

रायपुर. लॉक डाउन है ऐसे में बेटे को वर्तमान में ऐसे बहुत से गरीब, बेसहारा है जो फंसे हुए हैं। उन्हें सहायता की सख्त जरूरत है।

यह भी पढ़ें- Tablighi Jamaat: प्रमुख मौलाना साद की कोरोना रिपोर्ट आई निगेटिव

नवीन पाठक ने मां की बरसी को यादगार बनाने और उनकी आत्मा को सुकून देने डोनेशन ऑन व्हील्स को घर बुलाया और पत्नी विनिता पाठक के साथ मिलकर 210 किलो आटा दान किया।

मां की सीख थी याद

दान से बड़ा कोई पुण्य नहीं होता..खास मौके में दान का महत्व और भी बढ़ जाता है। ऐसा ही मौका आज था, अक्षय तृतीया का। देवेंद्र नगर में रहने वाले नवीन पाठक की मां स्वर्गीय प्रतिमा पाठक की बरसी थी।

यह भी पढ़ें: Quarantine Pillow Challenge: तकिए की ड्रेस में नज़र आई तमन्ना.. शेयर की तस्वीर

जब मां जीवित थी तब आज के दिन वह अपने हाथों से अन्न, जल सहित अन्य सामग्रियों की दान किया करती थी। अपनी मां की इस परंपरा को बेटे ने भी जारी रखा है।

हर कोई कर रहा है मदद

डोनेशन ऑन व्हील्स के नोडल अधिकारी डॉ गौरव कुमार सिंह ने बताया कि एक ओर जहां बच्चे अपने जन्मदिन को यादगार बनाने दान कर रहे है , वही कुछ बच्चे गुल्लक में जमा किए अपने पैसे भी दान कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- खुद पर लगे आरोपो पर instagram में Kanika Kapoor ने दी क्या सफाई..?

कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने की गई लॉक डाउन की वजह से संकट में फसे गरीबों, बेसहारों और जरूरतमंदों को दान देकर पुण्य कमाने के इस घड़ी में सभी भागीदार बनना चाहते है।

आज के दिन का अलग महत्व

भारतीय संस्कृति में अक्षय तृतीया दिन का अपना अलग ही महत्व है। पौराणिक ग्रंथों के अनुसार मान्यता है कि इस दिन जो भी व्यक्ति किसी प्रकार का दान करता है,वह अक्षय बना रहता है। नवीन पाठक का मानना है कि हमारे इस दान से माँ की आत्मा को जरूर शान्ति मिलेगी।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें….

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*