Gyanendra returned to Congress,

अजीत जोगी के विधायक प्रतिनिधि ज्ञानेंद्र लौटे कांग्रेस में

कांग्रेस में लौटते ही सीएम बघेल से लिया आशीर्वाद

रायपुर. पूर्व सीएम अजीत जोगी के दाहिने हाथ कहे जाने वाले विधायक प्रतिनिधी ज्ञानेंद्र उपाध्याय (Gyanendra returned to Congress) ने मंगलवार को कांग्रेस में वापसी की। प्रदेश कांग्रेस के मुख्यालय राजीव भवन रायपुर में प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम के अनुमति से उपाध्यक्ष गिरीश देवांगन के समक्ष जनता कांग्रेस को छोड़ कांग्रेस में वापसी की। ज्ञानेंद्र उपाध्याय ने मुख्यमंत्री निवास पहुँच कर मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल जी का आशीर्वाद प्राप्त किया।

ज्ञानेंद्र उपाध्याय अजीत जोगी के बहुत ही करीबी माने व जाने जाते है । अजीत जोगी के चुनाव की कमान ज्ञानेंद्र उपाध्याय के हाँथो में ही रहती थी उनका कांग्रेस में वापस जाना जनता कांग्रेस एवं अमित जोगी के लिये बहुत बड़ा झटका है। अब मरवाही में अमित जोगी की राह आसान नहीं है क्यूँकि अजीत जोगी हो या अमित जोगी मरवाही सिर्फ़ चुनाव लड़ने जाते थे, बाक़ी मरवाही विधानसभा का पूरा कार्यभार ज्ञानेंद्र उपाध्याय के द्वारा ही उनकी ओर से सम्भाला जाता रहा है।

यह भी पढ़े: भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिधिया और उनकी मां कोरोना संक्रमण से ग्रसित

1980 से राजनीति में सक्रिय

ज्ञानेंद्र उपाध्याय (Gyanendra returned to Congress) 1980 से सक्रिय राजनीति में है, ये इस क्षेत्र से जनपद अध्यक्ष एवं मंडी अध्यक्ष भी रह चुके है। ये कांग्रेस के विभिन्न पदो में कार्य कर चुके है, इनके द्वारा अब तक मरवाही में 7 विधानसभा और लोकसभा चुनाव का सफल संचालन किया जा चुका है । ये भँवर सिंह पोर्ते के वक़्त से चुनाव का काम करते आ रहे है । इनकी पैठ मरवाही विधानसभा के हर बूथ एवं हर घर तक है। मरवाही में अब अमित की राह आसान नही है। ज्ञानेंद्र उपाध्याय के साथ छोड़ने से अमित जोगी का पूरा समीकरण गड़बडा जायेगा।

यह भी पढ़े: छत्तीसगढ़ में कोरोना से 6वीं मौत, 10 नए संक्रमित मरीज मिले

अमित जोगी के क्रियाकलापों से खुश नहीं पदाधिकारी

जनता कांग्रेस जे के अनेक पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता अमित जोगी के क्रियाकलापों से खुश नही है।अमित जोगी की ख़राब छवि एवं बुरे बर्ताव की वजह से विधानसभा चुनाव के पहले भी कई दिग्गज जनता कांग्रेस छोड़ कर जा चुके है। जब तक अजीत जोगी जीवित थे उन्होंने सब को बांध रखा था पर अब वो डोर टूट गई है।

अमित जोगी के साथ कोई भी उनकी नकारात्मक छवि की वजह से  कार्य नही करना चाहता है। विधानसभा चुनाव के पहले अमित जोगी के क्रियाकलापों से खिन्न हो युवा जनता कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष विनोद तिवारी व अन्य ने जनता कांग्रेस छोड़ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी के जन्मदिवस पर कांग्रेस वापसी की थी। आज ज्ञानेंद्र उपाध्याय (Gyanendra returned to Congress) के कांग्रेस वापसी में भी विनोद तिवारी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

देश-प्रदेश की खबरों के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*