Guest lectures will not go, teach online, will be paid

Exclusive : नहीं जाएगी अतिथि व्याख्यता की नौकरी, ऑनलाइन पढ़ाओ, होगा भुगतान

रायपुर . उच्च शिक्षा विभाग आदेश जारी कर कहा है कि अभी कॉलेजों में Guest lectures स्नातकोत्तर (पीजी) के दूसरे और चौथे सेमेस्टर का पाठ्यक्रम अधूरा है। इसके साथ ही विद्यार्थियों का आंतरिक मूल्यांकन और असेसमेंट भी होना है। यह सभी कार्य अतिथि व्याख्याताओं के माध्यम से ऑनलाइन वीडियो लेक्चर व वीडियो क्लास के जरिए पूरे कराए जाएंगे।

यानी अच्छी बात ये है कि उन अतिथि व्याख्याताओं Guest lectures को शासन पूरा भुगतान करेगा। इस ऑनलाइन क्लास और वीडियो लेक्चर का हिसाब कॉलेज प्राचार्य रखेंगे। इसी आधार पर अतिथि व्याख्याताओं को मानदेय भुगतान किया जाएगा। प्राचार्यों को अतिथि व्याख्याताओं के बनाए वीडियो लेक्चर का रिकॉर्ड रखना होगा। भुगतान के संबंध में जिम्मेदारी प्राचार्य की ही होगी।

ये भी पढ़ेशराब दुकान का विरोध, भाजपा नेता श्रीवास सहित 4 गिरफ्तार

क्यों लेना पड़ा यह निर्णय

कोरोना संक्रमण की वजह से 13 मार्च से ही प्रदेश के कॉलेजों में पढ़ाई बंद करा दी गई। इन कॉलेजों में बहुत से विषय पढ़ाने के लिए अतिथि व्याख्याताओं को रखा गया है, क्योंकि उक्त विषय में नियमित प्रोफेसर नहीं है। इन व्याख्याताओं को कक्षा लेने के हिसाब से भुगतान किया जाता है। प्रति पीरियड के हिसाब से उन्हें भुगतान होता है। कोरोना लॉकडाउन को देखते हुुए मार्च से यह सभी कॉलेज बंद कर दिए गए, जिससे इन अतिथि व्याख्याताओं के सामने आर्थिक संकट पैदा हो गया। इन्हें बिना कक्षा के रुपए भुगतान का नियम नहीं है, इसलिए आज तक की तारीख तक इनको भुगतान नहीं हो पाया। अतिथि व्याख्याताओं Guest lectures की परेशानी को देखते हुए उच्च शिक्षा विभाग ने इनको भी ऑनलाइन कक्षा या वीडियो लेक्चर से जोडक़र वेतन भुगतान में शामिल किया।

नेता प्रतिपक्ष में कसा था तंज

प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने भूपेश सरकार पर हमला करते हुए कहा था कि अतिथी शिक्षकों को बेरोजगार क्यों किया जा रहा है। कौशिक ने आगे कहा कि भाजपा सरकार ने वर्ष 2016 में युवकों को नौकरी देने के लिए इस अभियान की शुरूआत की थी। इस योजना के तहत हजारों युवकों को शिक्षा अभियान से जोड़ा गया था। इस समय परिस्थियों को देखते हुए प्रदेश सरकार को गंभीरता से अतिथि व्याख्याताओं के हित में भी कदम उठाने चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*