sadak

Good news in lock down: पहाड़ को काटकर बना दी सड़क, दौडऩे लगी 200 परिवारों को जिंदगी

लॉकडाउन के दौरान राशन सहित अन्य सामग्री पहुंचाने में हो रही आसानी

रायपुर. Good news in lock down सदियों से जिन दो सौ परिवारों की जिंदगी थमी हुई थी, अब उनकी वह दौडऩे लगी है। नारायणपुर जिला प्रशासन द्वारा पहाड़ों को काटकर सड़क का निर्माण कर दिया है। नक्सल प्रभावित सुदूर वनांचल के निवासी जो वर्षों से आवागमन की समस्या से जूझ रहे थे।

ये भी पढ़े : केशकाल में सडक़ हादसा, एक मौत, पीसीसी चीफ ने अपनी गाड़ी से पहुंचाया अस्पताल

उन्हें जिला प्रशासन ने कन्हारगांव से टेमरूगांव 8 किलोमीटर और टेमरूगांव से टोयमेटा तक 7 किलोमीटर पक्की सड़क बना दी है। जिससे लॉकडाउन के दौरान गांवों में राशन, एम्बुलेंस सहित अन्य वाहनों की पहुंच अब आसान हो गई है।

ये भी पढ़े : प्रदेश में तीन नए कोरोना पॉजीटिव मरीज मिले, 6 की जांच निगेटिव

नारायणपुर जिला मुख्यालय से 50 किलोमीटर दूर (Good news in lock down) पहाड़ों से घिरे टेमरूगांव ग्राम पंचायत के दो गांवों और छह पारा-टोले में 200 परिवार प्राकृतिक की गोद में रहते हैं। पहाड़ों की तराई में बसे गांवों में रहने वाले लोग विषम परिस्थितियों में जीवन गुजार रहे थे।

ये भी पढ़े : ये भी पढ़ेसीएम बघेल ने लिखा, मीडियम हिंदी हो या अंग्रेजी, कला में निपुण ही असली चैम्पियन

पहुंचमार्ग के अभाव में किसी भी क्षेत्र के लिए विकास की बात करना कल्पना थी, लेकिन प्रशासन के सफल प्रयास से अब यहां जरूरी सुविधाएं पहुंचने लगी है।

एक पगडंडी थी सहारा

ग्राम पंचायत टेमरूगांव की सरपंच कनेश्वरी कोर्राम बताती हैं कि (Good news in lock down) सदियों से बसे इन गांवों में लगभग 700 लोग रहते हैं। कुछ महीने पहले इस गांव तक पहुंचना ही सबसे बड़ी समस्या थी। सीधी चढ़ाई वाले पहाड़ के ऊपर बसे गांवों तक पहुुंचने के लिए एक मात्र साधन पगडंडी ही थी।

खुश है गांव के लोग

ऊंचे पहाड़ी में बसे इस गांव के लोग अब बहुत खुश हैं। सुविधा मिल जाने से लोग ने मुख्यमंत्री के प्रति आभार भी प्रकट किया है। प्रशासन द्वारा पहाड़ को काटकर सड़क निर्माण का कार्य किया जाना प्रशंसनीय है।

मिलने लगी और भी सुविधाएं

  • गांव में पहुंचने के लिए पगडण्डियों पर पैदल चलना मुश्किल था,
  • अब वहीं सड़क निर्माण से बिजली, उचित मूल्य की दुकान,
  • साफ पीने का पानी, स्कूल और आवश्यक सुविधाएं ग्रामीण को उपलब्ध हो रही हैं।
  • लॉकडाउन के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ-साथ एम्बुलेंस
  • अन्य बुनियादी सुविधायें गांवों तक पहुंच रही है।

ये भी पढ़ेसीएम बघेल ने लिखा, मीडियम हिंदी हो या अंग्रेजी, कला में निपुण ही असली चैम्पियन

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*