CM BHUPESH BAGHEL,

गोधन न्याय योजना: 3 हजार 785 गौठानों से हितग्राहियो को सरकार ने किया 59 करोड़ 8 लाख का भुगतान

9वीं किश्त की राशि के रूप में 5 करोड़ 56 लाख रूपए का भुगतान

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM BHUPESH BAGHEL) राजधानी स्थित अपने निवास कार्यालय से छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना के तहत 41 हजार 35 पशुपालक हितग्राहियों को गोबर खरीदी की 9वीं किश्त की राशि के रूप में पांच करोड़ 56 लाख रूपए की राशि का ऑनलाइन भुगतान किया। राज्य में इसे मिलाकर अब तक 1 लाख 36 हजार गोबर विक्रेताओं को 59 करोड़ 8 लाख रूपए की राशि का भुगतान हो चुका है।

CM बघेल (CM BHUPESH BAGHEL) ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में गांवों की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने में गोधन न्याय योजना एक महत्वपूर्ण योजना है। इसके तहत बनाए गए गौठान गांवों में रोजगार के लिए महत्वपूर्ण केन्द्र साबित हो रहे है। उन्होंने कहा कि गौठानों की समितियों सहित स्व-सहायता समूहों को कृषि महाविद्यालय और कृषि विज्ञान केन्द्रों से भी जोडक़र और अधिक सक्रिय तथा गतिशील बनाया जाए। गौठानों के स्वावलंबी होने पर उन्हें शासन से राशि की आवश्यकता नहीं होगी और वे अपनी गतिविधियों का समयबद्ध ढंग से संचालन कर अधिक से अधिक आय अर्जित कर पाएंगे।

कृषकों से पैरादान की अपील की

मुख्यमंत्री (CM BHUPESH BAGHEL) ने इस दौरान गौठानों में मवेशियों के चारा की पर्याप्त उपलब्धता के लिए पशुपालक कृषकों से पैरादान करने की अपील की है। उन्होंने गौठानों में गोबर की आवक और मवेशियों की संख्या के अनुपात में पर्याप्त मात्रा में वर्मी कम्पोस्ट टांके के निर्माण के लिए भी विशेष जोर दिया। उन्होंने गौठानों में कार्यरत् समितियों तथा स्व-सहायता समूहों को सुदृढ़ बनाने स्थानीय जरूरत तथा मांग के अनुरूप उन्हें व्यावसायिक गतिविधियों से जोडक़र उत्पादन के लिए प्रोत्साहित करने के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए।

गोधन न्याय योजना को ग्रामीणों के लिए महत्वपूर्ण

इस अवसर पर कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रविन्द्र चौबे ने गोधन न्याय योजना को ग्रामीणों के लिए महत्वपूर्ण बताया और कहा कि राज्य में गौठानों की संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है। इससे पशुपालकों के साथ-साथ भूमिहीन गरीब परिवार भी लाभांन्वित होने लगे है।
उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में 20 जुलाई से प्रारंभ गोधन न्याय योजना के तहत विगत 30 नवम्बर तक 6 हजार 430 गौठान स्थापित हो गए है, इनमें सक्रिय गौठानों की संख्या 3 हजार 785 है। इस दौरान गौठानों में 29 लाख 53 हजार क्विंटल गोबर की खरीदी में हितग्राहियों को 59 करोड़ 8 लाख रूपए की राशि का भुगतान हो चुका है।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*