Five and a half thousand engineers of the state will not be able to do internship, stop till December

इंटर्नशिप नहीं कर पाएंगे प्रदेश के साढ़े 5 हजार इंजीनियर्स, दिसंबर तक रोक

भिलाई . छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय से संबद्ध इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट कॉलेजों के करीब साढ़े 5 हजार विद्यार्थी मई-जून में होने वाली समय internship इंटर्नशिप नहीं कर पाएंगे। कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए यह निर्णय अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद यानी की एआईसीटीई ने लिया है, जिसे सीएसवीटीयू भी अपने सभी कॉलेजों में लागू कराएगा। परिषद ने कहा है कि विद्यार्थियों को इंटर्नशिप internship का मौका अब सीधा दिसंबर में मिलेगा। भले ही लॉकडाउन जल्दी खत्म हो जाए, लेकिन इंटर्नशिप और इंडस्ट्रियल विजिट जैसे इवेंट फिलहाल नहीं होंगे। बता दें कि तकनीकी कॉलेजों के छात्र गर्मियों की छुट्टियों में अनिवार्य इंटर्नशिप करते हैं।

क्यों जरूरी होती है इंटर्नशिप

यह इंटर्नशिप internship इंजीनियरिंग के दूसरे और चौथे सेमेस्टर को पूरा करने के बाद करना अनिवार्य होता है। कॉलेज विद्यार्थी को उसके ब्र्रांच के हिसाब से इंडस्ट्री या फिर विभिन्न कंपनी में भेजता है। कुछ कंपनियां internship के दौरान विद्यार्थियों को स्टाईपैंड भी देती है, साथ ही इससे रोजगार की दृष्टि से भी संभावनाएं बनती है। इंटर्नशिप के जरिए छात्रों को व्यावहारिक ज्ञान हासिल करने के साथ ही उद्योग को समझने का अवसर मिलता है।

ये भी पढ़े कोरबा कोरोना हॉटस्पॉट में पोल्ट्री कारोबार पर रोक, गुहार लगाने पहुंचा एसोसिएशन

इंटर्नशिप पाठ्यक्रम का हिस्सा

ऑनलाइन internship का विकल्प वर्तमान परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए एआईसीटीई ने तय किया है कि अब छात्र इंटर्नशिप दिसंबर में कर पाएंगे। क्योंकि मई में लॉकडाउन समाप्त होने के बाद भी यह देखना होगा कि ज्यादा लोग एक साथ एकत्र न हों, हमें आने वाले कुछ समय सावधानी बरतनी होगी। एआईसीटीई ने कहा है कि बहुत सी कंपनियों में वे इंटर्न को ऑनलाइन तरीके से असाइनमेंट देने को तैयार है। इसमें कंप्यूटर साइंस ब्रांच के छात्र सर्वाधिक फायदा ले सकेंगे, लेकिन बाकी ब्रांच को फिलहाल दिसंबर तक रुकना ही होगा।

फीस को लेकर भी बड़ी दखल

एआईसीटीई ने यह भी कहा है कि कोई भी तकनीकी कॉलेज लॉकडाउन तक और सामान्य स्थिति बहाल होने तक छात्रों पर फीस का दबाव नहीं बना सकता। इसके साथ ही शिक्षकों का पूरा वेतन भी समय पर देने और नौकरी से नहीं निकालने को कहा गया है।

एआईसीटीई ने कहा है कि छात्र अभी इंटर्नशिप नहीं करेंंगे। कोरोना लॉकडाउन की वजह से यह फैसला हुआ है। जल्द ही सीएसवीटीयू आदेश जारी कर देगा। परिषद ने ऐसे छात्रों के लिए ऑनलाइन इंटर्नशिप का विकल्प दिया है। हालांकि इसमें सभी ब्रांच नहीं आ पाएंगे। सबकी बेहतरी के लिए छात्रों की इंटर्नशिप दिसंबर में कराने का फैसला हुआ है। डॉ. अरुण अरोरा, प्राचार्य, बीआईटी, दुर्ग

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*