pidit

Check Amount: 4 महीने पहले जमा किया चेक से अब तक नही मिली राशि

चार महीने से बैंक का चक्कर लगाने को मजबूर

गरियाबंद. शासन से मिली मुआवजा राशि (Check Amount) का चेक किसान को मिला, लेकिन अब बैंकों की मनमानी से चार माह से चेक क्लियर नहीं हो पाया है। कारण यह है कि देना बैंक ने चेक काटते समय लेखनीय गलती कर दी थी।

ये भी पढ़े Corona Effect: 1.13 करोड़ सरकारी कर्मचारियों को झटका, महंगाई भत्ता पर रोक

जिले के देवभोग ब्लॉक के सेनमुड़ा गॉव का किसान ठबेराम मरकाम अपने ही पैसे को पाने के लिए बैंकों का चक्कर लगा रहा है। किसान करीब चार महीने पहले 17 दिसंबर 2019 को अपने नहर नाली के एवज में मिले मुवावज़े का चेक (Check Amount) मिला था। राशि 3 लाख 90 हज़ार का चेक जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के देवभोग शाखा में जमा किया था।

ये भी पढ़े कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में सीएम भूपेश ने बताया छत्तीसगढ़ में कोरोना का हाल

चेक देना बैंक का होने के कारण जिला सहकारी बैंक ने चेक (Check Amount) को करेक्शन करने के लिए बैंक ऑफ बरोदा के देवभोग शाखा में भेजा था। वही 17 दिसंबर 2019 को भेजा गया चेक अब तक करेक्शन होकर वापस जिला सहकारी केंद्रीय बैंक तक नही पहुँच पाया है।

सहकारी बैंक का तर्क

मामले में जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के मैनेजर एन एस ठाकुर का कहना है कि किसान द्वारा दिसंबर के महीने में चेक जमा किया गया था। चेक देना बैंक का होने के कारण करेक्शन के लिए देना बैंक भेजा गया था। ठाकुर ने बताया कि चार महीने बीत गए। किसान का चेक अब तक क्लियर नही हो पाया है।

बैंक मैनेजर की आनाकानी

वही बैंक ऑफ बड़ौदा के मैनेजर के के मंडल का कहना है कि संबंधित चेक के जानकारी नही है। वही चार महीने में चेक के करेक्शन नही होने के के सवाल पर उन्होंने ने चुप्पी साध ली।

ऐसे परेशान कर रहे

  • चार महीने से बैंक का चक्कर लगा रहा पीड़ित किसान ठबे राम
  • जिला सहकारी केंद्रीय बैंक का का कहना है की चेक को करेक्शन के लिए भेजा गया है।
  • देना बैंक पहुँचने पर चेक नही मिलने की बात कह रहे है।

हुई शिकायत

मामले की शिकायत देवभोग एसडीएम व थाना प्रभारी से करते हुए न्याय की गुहार लगाई है।

बैंक मैनेजर से करेंगे चर्चा

मामले में देवभोग एसडीएम भूपेंद्र साहू कि संबंधित बैंक के मैनेजर से मामले की जानकारी ली जाएगी। इसके बाद उचित कदम उठाया जाएगा

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*