CSVTU backlog and regular semester exam postponed

आखिर प्रदेश के इंजीनियरिंग कॉलेजों को क्यों नहीं मिल रही है मान्यता?

रायपुर . छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय CSVTU Bhilai से संबद्ध इंजीनियरिंग कॉलेजों को फिलहाल अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) से नए सत्र की मान्यता का अप्रवूल नहीं मिल पाया है। इसकी भी वजह कोरोना वायरस ही है। अभी तक हमेशा एआईसीटीई 30 अप्रेल तक देशभर के कॉलेजों को मान्यता जारी कर देती थी, लेकिन अब एआईसीटीई ने मान्यता से जुड़े कार्याेें के लिए अतिरिक्त समय मांगा है।

ये भी पढ़े – टॉम क्रूज की अगली फिल्म अंतरिक्ष में, अब Space में भी लाईट..एक्शन.. कैमरा

कॉलेज से कहा गया है कि 17 मई तक की स्थिति में यह प्रक्रिया पूरी करने की कोशिश रहेगी। लेकिन यदि लॉकडाउन और बढ़ा तो इसमें और भी विलंब हो सकता है। एआईसीटीई ने प्रदेश के इंजीनियरिंग कॉलेजों CSVTU Bhilai को पत्र भेजकर यह बात समझाई है। गौरतलब है कि न्यायालय से इंजीनियरिंग कॉलेजों को अप्रवूल जारी करने और ऐसे ही तमाम कार्यों को पूरा करने के लिए 30 अप्रेल मियाद के तौर पर दी है। यानी यह तिथि गुजर गई। इसी लिए एआईसीटीई ने लॉकडाउन का हवाला देकर प्रक्रिया पूरी करने १५ जून तक की मोहलत मांगी है।

ये भी पढ़ेइस सांसद ने आखिर क्यों रखा अपनी बेटी का नाम कोरोना..?

अब ऑनलाइन होगी स्क्रूटनी

कोरोना लॉकडाउन के बीच इस साल नए ब्रांच खोलने, ब्रांच बंद करने जैसे तमाम कार्यों के लिए भोपाल के रीजनल कार्यालय में स्कू्रटनी नहीं होगी, बल्कि यह कार्य सारे काम ऑनलाइन ही कराने होंगे। नए CSVTU Bhilai ब्रांच और इनटेक वृद्धि जैसी मांग सॉफ्टवेयर में फीड करनी होगी। एआईसीटीई ने कहा है कि इंजीनियरिंग एवं अन्य ब्रांच की पढ़ाई के लिए यूजीसी का सुझाया कैलेंडर पालन किया जाएगा। ऐसा पहली बार हुआ है जब एआईसीटीई को तिथि बढ़ानी पड़ी है। उधर, परिषद ने यह भी कहा है कि जिन कॉलेजों ने कोई परिवर्तन नहीं किए हैं, वे कुछ दिनों में अप्रवूल हासिल कर पाएंगे, लेकिन शेष को इंतजार करना होगा।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें….

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*