coronavirus,

coronavirus : तिरूपति से महासमुंद लौटे 18 श्रद्धालुओं को होम क्वारंटाइन में रखा अफसरों ने

घर से बाहर मिलने पर FIR का निर्देश

महासमुंद. प्रदेश में कोरोना वायरस (coronavirus) के दौरान लॉकडाउन का सख्ती से पालन हो इसलिए सीएम भूपेश बघेल ने आईजी और पुलिस अधीक्षकों को सख्ती करने का निर्देश दिया है। सख्ती के दौरान कोरोना वायरस से ग्रसित संदेही मरीजों की शिनाख्त करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी सर्दी-खासीं के लक्षण दिखने पर हाथ में ‘अमिट स्याही’ लगा रहे है और उनहें होम क्वारंटाइन रखने का निर्देश दे रहे है।

गुरुवार को रात को प्रदेश के महासमुंद जिले में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने तिरूपति यात्रा करके जिले में लौटे 18 जिलेवासियों की कोराना वायरस (coronavirus) से मिले जुले लक्षण दिखने के बाद जांच करके होम क्वारंटाइन रहने का निर्देश दिया है। सभी संदेही मरीजों के हाथों में अमिट स्याही स्वास्थ्य अधिकारी ने लगाई है, ताकि कोई भी शासकीय अधिकारी उनकी शिनाख्त करके कार्रवाई कर सके।

इन्होंने किया था परीक्षण

26 मार्च 2020 की रात ही मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एसपी वारे के निर्देशानुसार राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक संदीप ताम्रकार और कोरोना वायरस (coronavirus) संक्रमण दल के जिला नोडल अधिकारी डॉ अनिरुद्ध कसार ने संदेहियों का परीक्षण किया। इस दौरान संदिग्ध मरीजों के बाएं हांथ की अंगुलियों पर अमिट स्याही (चुनाव के दौरान उपयोग में लाई जाने वाली स्याही जो लंबी समय तक नहीं मिटती) लगा चिन्हांकन किया गया। स्याही इस बात की गवाह रहेगी कि उन्हें संक्रमण की संदिग्धावस्था में रखा गया है। जिसमें उन्हें संयमित रहते हुए स्वयं के साथ दूसरों के स्वास्थ्य हित में होम क्वारंटीन जैसे नियमों का कड़ाई से पालन करना है। आपको बता दें कि यह स्याही कोई आम स्याही नहीं है इसे शासन स्तर पर कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए अनुमति दी गई है।

जांच टीम में ये रहेंगे मौजूद

डीपीएम ताम्रकार के मुताबिक जांच पूरी होने के बाद तय किया जाएगा कि उक्त प्रकरणों में संदिग्ध मरीजों क्वारंटीन केंद्र में रखा जाएगा या नहीं? लेकिन, पहले से की गई तैयारी में 3 विशेषज्ञ चिकित्सों में डॉ गदाधर पंडा, डॉ के बी सिंह और डॉ सर्वेश दुबे सहित एएनएम लता साहू के अनुभवी दल को महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां सौंपी गईं हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*