coronavirus in india

Lock down और janta curfew के बाद अब क्या कर रहा है मेरा देश..

जरूरी है आपका और हमारा सहयोग अन्यथा जो होगा उसकी कल्पना करना होगा मुश्किल

न्यूज डेस्क. देश में कोरोना वायरस coronavirus मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। इस वायरस से पीडित मरीजों की संख्या के साथ ही मरने वालों की तादात भी बढ़ने लगी है। ऐसे में पूरे देश में जनता कर्प्यू janta curfew के साथ ही लॉक डाउन Lock down जैसे प्रबंध किए जा रहे हैं। क्या सरकारें और क्या केन्द्र सरकार सभी एक्टिव हो गए हैं ताकि हमारा देश कोरोना के विकराल रूप के निजात पा जाए। इस खबर को पूरा पढ़िए और जानिए हमारी सरकार क्या-क्या कर रही है इस समस्या से निपटने के लिए।

पूरे देश में जनता कर्फ्यू janta curfew के बाद 22 राज्यों के 75 जिलों में लॉकडाउन Lock down के हालात हैं। ट्रेन मेट्रो और बस सेवाओं सहित सार्वजनिक ट्रांसपोर्ट सेवाएं बंद कर दी गई है। ऐसा सख्त कदम सरकार इसलिए उठा रही है ताकि हमारी और आपकी जान की सुरक्षा हो सके। साथ ही इस कोरोना के कम्यूनिटी प्रसार पर बंदिशें लगाई जा सके। इसके बाद अब सरकार आगे क्या कर रही है सिलसिलेवार आपको बता रहे हैं…

बन रही है सूची

कोरोना वायरस की सबसे अहम बात यह है कि जिस व्यक्ति की जांच के बाद पहले कोरोना की पुष्टि नही होती वो बाद में पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। जाहिर है सरकार इस इसे लेकर गंभीर है। कोरोना मरीजों के साथ ही उनके संपर्क में आने वाले लोगों की बकायदा सूची बनाई गई है या बनाई जा रही है ताकि इसका प्रसार रोका जा सके। अमूमन इस स्टेज में हमारे देश में अब तक कोरोना मरीजों को देखा जाए तो वो लगभग सभी विदेशों से लौटे हुए हैं या विदेश से लौटे लोगों के संपर्क में आए हैं। अब ऐसे लोगों की पहचान की जा रही है जो पिछले कुछ वक्त में विदेशों की यात्रा कर लौटे हैं।

दिल्ली में 35 हजार लोगों की पहचान

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने सभी जिलाधिकारियों को 1 मार्च के बाद विदेश से लौटे यात्रियों की पहचान करने की जिम्मेदारी दी है। विदेश से लौटे ऐसे 35 हजार लोगों की पहचान कर ली गई है। इसके बाद अब इन सभी लोगों को 14 दिन तक निगरानी में रखा जाएगा। बता दें कि दिल्ली में कोरोना वायरस के अब तक 27 केस आए हैं, इनमें से 21 मरीज ऐसे हैं जो विदेश से आए थे।

क्वारंटाइन मुहर, सख्त हिदायत

देश के बड़े हिस्से में लॉकडाउन लागू है और पीएम नरेंद्र मोदी ने सभी राज्य सरकारों से कहा है कि इसका सख्ती से पालन कराएं। इसके बाद भी कुछ केस ऐसे सामने आए हैं कि जिनमें क्वारंटाइन की मुहर वाले लोग भी सार्वजनिक जगहों पर देखे जा रहे हैं। बेंगलुरु पुलिस कमिश्नर को ऐसी शिकायत मिली थी, जिसके बाद उनकी तरफ से सख्त कार्रवाई का फरमान दिया गया है। बेंगलुरु पुलिस कमिश्नर ने ट्वीट किया है कि अगर क्वारंटाइन मुहर लगे लोग कहीं बाहर नजर आएं तो 100 नंबर पर कॉल करें, ऐसे लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा और ‘सरकारी क्वारंटाइन’ में भेजा जाएगा। छत्तीसगढ़ सहित देश के कई हिस्सों में विदेश से लौटने वालों के घरों पर स्टीकर लगाए गए हैं। साथ ही उनके हाथों पर पहचान के लिए मुहर भी लगाई जा रही है।

टेस्ट जरूरी

संक्रमित लोगों की पहचान और उनको आइसोलेशन व क्वारंटाइन में रखने के अलावा सरकार की ओर से कुछ और कदम उठाए जा रहे हैं जिसमें टेस्ट शामिल हैं। कोरोना से बचाव में उसका टेस्ट भी सबसे अहम है। WHO की तरफ से भी कहा गया है कि अगर वक्त रहते टेस्ट की व्यवस्था की जाए तो इस वायरस को हराया जा सकता है।

सरकार ने बढ़ाई लैबों की संख्या

देश में अब टेस्ट को लेकर सरकार ने कई इंतजाम किए हैं। सरकारी लैबों की संख्या बढ़ाने के साथ ही निजी लैबों में भी अब कोरोना संक्रमण जांच की परमिशन दे दी गई है। अभी तक 89 लैब में कोरोना की जांच हो रही थी, लेकिन 27 नई लैब का गठन किया गया है। जिससे कोरोना टेस्ट की लैब बढ़कर 116 हो गई है। इसके अलावा 6 प्राइवेट लैब्स को भी टेस्ट की इजाजत दी गई है।

IIT को मिली सफलता, बनाई सस्ती टेस्ट किट

सूत्रों के मुताबिक, आईआईटी दिल्ली ने कोविड-19 वायरस का पता लगाने वाली किट तैयार कर ली है। जल्द ही इसका क्लीनिकल परीक्षण किया जा सकता है। नए टेस्ट किट से कोरोना वायरस से होने वाले संक्रमण का पता जल्दी लगाया जा सकेगा और खर्च भी कम आएगा। सूत्रों के मुताबिक, मौजूदा किट इसलिए महंगी है क्योंकि उसमें जिस प्रक्रिया और संसाधन का इस्तेमाल किया जाता है उसे तकनीकी भाषा में ‘प्रोब’ कहते है। आईआईटी दिल्ली की टीम ऐसी किट बना रही है जिसमें प्रोब का इस्तेमाल बेहद कम है, जिससे लागत घटाई जा सके।

अपना खुद का रखें ध्यान, अपने आप रख लेंगे दूसरों का ध्यान

कोरोना से पार पाने वाले देशों ने जो तरीके अपनाए हैं और WHO भी जिन तरीकों को कोरोना से लड़ाई में सबसे कारगर बता रहा है, भारत अब उस दिशा में आगे बढ़ रहा है। लेकिन इस सबके बीच जरूरी ये है कि लोग लॉकडाउन के तहत घरों में रहें, एहतियात बरतें और सरकार का सपोर्ट करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*