Corona warriors insulted,

पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह ने कोरोना योद्धाओं का किया अपमान: सीएम भूपेश बघेल

पूर्व सीएम ने अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर घेरा था राज्य सरकार को

रायपुर. कोरोना संक्रमण काल के बीच छत्तीसगढ़ में आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति जारी है। पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह ने गुरुवार को अधिकारियों की कार्यप्रणाली (Corona warriors insulted) पर सवाल  लगाते हुए राज्य सरकार की कार्यप्रणाली पर निशाना साधा था। पूर्व सीएम ने कहा था, कि अधिकारी श्रमिकों की मदद करने के बजाए नेटफ्लिक्स देख रहे है। पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह के इस बयान पर सीएम भूपेश बघेल ने पलटवार किया है।

यह भी पढ़े: लॉकडाउन में जैन अनुयायियों ने मंदिर खोलने की मांग, दिया ये तर्क…

कांग्रेस प्रवक्ताओं द्वारा जारी बयान के मुताबिक सीएम भूपेश बघेल ने  कहा, कि डॉ. रमन सिंह द्वारा दिया गया बयान तथ्यहीन और क्षुद्र राजनीतिक स्वार्थ सिद्धि हेतु दिया गया बयान है । रमन सिंह यदि राज्य में आने वाले और राज्य से गुजरने वाले श्रमिकों से प्रत्यक्ष में मिलकर उनका हालचाल जानते, तो उन्हें यह पता चलता कि देश में छत्तीसगढ़ मात्र ऐसा राज्य है। जहां श्रमिकों को भोजन पानी एवं परिवहन की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। 

यह भी पढ़े: गजब होशियारी : क्वारंटाइन सेंटर में रखे गए लोगों को कोटवार ने पिलवाई शराब

भाजपा शासित राज्यों में नहीं व्यवस्था

सीएम भूपेश बघेल ने पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह पर तंज कसते हुए कहा, कि छत्तीसगढ़ जैसी व्यवस्था अन्य भाजपा शासित राज्यों में नहीं है। भाजपा शासित राज्यों में व्यवस्थाएं नहीं होने से श्रमिक पैदल ही पलायन करने के लिए  विवश है। 

कोरोना योद्धा कर रहे अथक प्रयास

सीएम भूपेश बघेल ने कहा, कि राज्य के सभी जनप्रतिनिधियों अधिकारियों कर्मचारियों एवं सामाजिक संगठनों द्वारा विगत 3 माह से दिन-रात अथक परिश्रम किया गया है। सभी के परिश्रम की वजह से ही आज राज्य  करोना वायरस (Corona warriors insulted) से निपटने में सफल हो सका है। केंद्र सरकार के साथ ही सारा देश आज छत्तीसगढ़ में करोना से निपटने हेतु किए गए प्रयासों की सराहना कर रहा है।

यह भी पढ़े:  नमक की कालाबाजारी करने वाले 12 दुकानों 60 हजार रुपए का लगा जुर्माना

राज्य के अधिकारियों के घर बैठकर नेटफ्लिक्स देखने का आरोप निहायत गैर जिम्मेदाराना है । यह हमारे लाखों अधिकारियों  कर्मचारियों का अपमान है, जिन्होंने करोना से लड़ाई में योद्धाओं (Corona warriors insulted) की तरह कार्य किया है । रमन सिंह को अपने कथन के लिए अधिकारियों कर्मचारियों से माफी मांगनी चाहिए । राष्ट्रीय आपदा की इस घड़ी में रमन सिंह को चाहिए कि घर बैठे बैठे बेसिर पैर की विज्ञप्ति जारी करने के बजाए करोना पीड़ितों की सहायता करें ।

देश-दुनिया की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*