corono

Corona In MP : कोराेना संक्रमितों का पता लगाने कलेक्टर ने निकाली अनोखी तरकीब

संक्रमित लोगों की सूचना देने पर इनाम की घाेषणा की

इंदौर. Corona In MP: मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1100 से ज्यादा पहुंच चुकी है। लॉकडाउन के बावजूद मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है। अभी भी संक्रमित लोग मध्य प्रदेश प्रशासन से छिपे बैठे है। संक्रमित लोगों का पता लगाने के लिए भिंड जिले के कलेक्टर ने अनोखी पहल की है।

यह भी पढ़े: Lockdown 2.0: उज्जैन, इंदौर और भोपाल में सख्ती बरतेगी शिवराज सरकार

भिले जिले (Corona In MP ) के कलेक्टर छोटे सिंह ने कोरोना संक्रमित मरीजों का पता बताने पर इनाम देने की घोषणा की है। पड़ाेसी की सूचना पर कोरोना संक्रमित मरीज, जिला प्रशासन को मिलेगा, तो कलेक्टर छोटे सिंह की तरफ से 500 रुपए का इनाम सूचक को दिया जाएगा। कलेक्टर छोटे सिंह ने यह पहल, इसलिए की है ताकि भिंड जिले में छिपे हुए कोरोना संक्रमितों का पता चल सकें।

चोरी-छिपे जिले में पहुंच रहे लोग

कलेक्टर छोटे सिंह ने मीडियाकर्मियों से चर्चा के दौरान बताया, कि संक्रमित मरीज चोरी छिपे सीमाओं से जिले में प्रवेश कर रहे है। संक्रमित मरीजों की वजह से जिले में कोरोना संक्रमण बढ़ने का खतरा है। सुरक्षा की दृष्टि से जिले को सील करके नाकाबंदी कर दी गई है। नाकाबंदी के बावजूद जो लोग शहर में प्रवेश कर रहे है, उनकी जानकारी मिल सके, इसलिए प्रयोग किया है।

30 हजार मजदूरों का वापसी

कलेक्टर सिंह ने बताया, कि जिले में देश भर में काम करने वाले 30 हजार से ज्यादा मजदूरों ने वापसी की है। सभी की स्क्रीनिंग कराई गई है। सभी को क्वारंटाइन किया गया है। जिले की जनता ने पूरा सहयोग दिया जाता है। जिला प्रशासन ने संदिग्धों की सूचना हासिल करने के लिए टोलफ्री नंबर का प्रचार-प्रसार भी किया है।

सीएम ने दिए है निर्देश

इंदौर, भोपाल और उज्जैन ने कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या देखकर सीएम शिवराज सिंह ने सख्ती (Corona In MP ) करने का  निर्देश दिया है। उनके निर्देशों का पालन हो इसलिए मंगलवार को उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक बुलाई थी। बैठक के बाद सभी जिलों के कलेक्टरों से वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए चर्चा की और लॉकडाउन का सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया है। 

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*