Corana infection,

छत्तीसगढ़ में हर दिन 3 हजार लोगों के सैंपल की जांच कर रहा स्वास्थ्य विभाग

प्रदेश में अब तक 55 हजार से ज्यादा लोगों की जांच

रायपुर. देश के साथ प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों (Corana infection) की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण नियंत्रित हो सके, इसलिए राज्य सरकार प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं के पुख्ता इंतजाम किए है। प्रदेश में स्थापित चार लैबों एम्स, अंबेडकर चिकित्तसालय , जगदलपुर व रायगढ़ मेडिकल कॉलेज के माध्यम से रोज तीन हजार से अधिक सैंपलों की जांच हो रही है।

आरटीपीसीआर जांच के लिए इन चारों लैब में पर्याप्त मात्रा में किट उपलब्ध हैं। रायपुर के लालपुर स्थित लैब में भी ट्रू-नॉट विधि से सैंपलों की जांच की जा रही है। प्रदेश में अब तक 55 हजार से अधिक कोविड-19 संभावितों के सैंपल की जांच हो चुकी है। राजनांदगांव, बिलासपुर और अंबिकापुर के शासकीय मेडिकल कॉलेजों में भी कोरोना वायरस जांच के लिए आईसीएमआर के मानकों के अनुरूप बीएसएल-2 लैब की स्थापना का काम जोरों पर हैं।

यह भी पढ़े: राजनांदगांव बना कोरोना का नया हॉट स्पॉट, प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या हुई 235

जनवरी माह में शुरू की थी तैयारी 

कोरोना संक्रमण (Corana infection) से निपटने के लिए भूपेश सरकार ने जनवरी माह से ही शुरू कर दी गई थीं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा रायपुर एयरपोर्ट पर विदेश एवं संक्रमित क्षेत्रों से लौटने वालों की निगरानी फरवरी से ही प्रारंभ कर दी गई थी। वर्तमान में बड़ी संख्या में लौट रहे प्रवासी मजदूरों की स्टेशन में ही आर.डी. किट से जांचकर क्वारेंटाइन सेंटर्स में भेजा जा रहा है।

क्वारेंटाइन सेंटर्स में श्रमिकों की सेहत की जांचकर कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण वालों के आरटीपीसीआर जांच के लिए सैंपल लिए जा रहे हैं। अभी तक 15 हजार से अधिक प्रवासियों के सैंपलों की आरटीपीसीआर जांच की जा चुकी है।

यह भी पढ़े: कवासी लखमा जैसी विचारधारा लोग RSS को नहीं समझ सकते: रेणुका

क्वारेंटाइन सेंटर्स में प्रवासी श्रमिकों के लिए पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। किसी भी व्यक्ति की कोरोना संक्रमण से मृत्यु नहीं हुई है। बिलासपुर जिले के मस्तुरी के मोहन लाल, मुंगेली के पुनीत टंडन एवं पाली की अन्टिला बाई के सैंपल लेकर आरटीपीसीआर जांच की गई है। इन सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है।

प्रदेश सरकार ने की ये तैयारी

कोरोना संक्रमण (Corana infection) की वजह से प्रदेश में विशेषीकृत अस्पतालों की स्थापना के साथ ही मौजूदा अस्पतालों का सुदृढ़ीकरण किया जा रहा है। विशेषीकृत अस्पतालों में इसके इलाज के लिए 1760 और अन्य अस्पतालों में 1586 बिस्तरों की व्यवस्था है। प्रदेश के 115 आइसोलेशन सेंटर्स में भी 5515 बिस्तर हैं, जहां कोविड-19 का उपचार किया जा सकता है।

यह भी पढ़े: छत्तीसगढ़ में फूटा कोरोना बम, रायपुर की महिला सहित प्रदेश में 40 नए मरीज

इस तरह कुल 8801 बिस्तरों पर अभी इलाज की व्यवस्था है। आवश्यकता पड़ने पर निजी अस्पतालों का भी अधिग्रहण कर इलाज की तैयारी है। राज्य के विभिन्न कोविड अस्पतालों में इलाजरत मरीज पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर घर लौट रहे हैं। अब तक 67 लोग इलाज के बाद बिलकुल स्वस्थ हो चुके हैं।

अलग-अलग अस्पतालों में अभी 186 मरीजों का उपचार चल रहा है। सीएम भूपेश बघेल ने कोविड-19 के मद्देनजर स्वास्थ्य सेवाओं की मजबूती के लिए सभी जिलों को 25-25 लाख रूपए और प्रत्येक विकासखंड को दस-दस लाख रूपए मुख्यमंत्री राहत कोष से जारी किए हैं। 

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*