thand,

उत्तर भारत में शीतलहर का कहर

3 जनवरी से बदलेगा मौसम का मिजाज

नई दिल्ली । नए साल के पहले दिन का स्वागत उत्तर भारत में कड़ाके की सर्दी (THAND) और शीतलहर ने किया। पंजाब, हरियाणा, राजस्थान सहित उत्तर भारत के अन्य राज्यों में कोहरे के चलते कई क्षेत्रों में दृश्यता काफी कम रही, इस कारण कई जगह सड़क हादसे भी हुए। वहीं भारतीय मौसम विभाग का कहना है 3 जनवरी से तापमान में तीन से पांच डिग्री का इजाफा हो सकता है, इससे कोहरे और शीतलहर से राहत मिल सकती है। जम्मू-कश्मीर में कई इलाकों में न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे चला गया है। गुलमर्ग में न्यूनतम तापमान माइनस नौ डिग्री तो पहलगाम में न्यूनतम तापमान माइनस 7.8 दर्ज किया गया।

ठंड से कंपकपाती रही दिल्ली

एक जनवरी को नव वर्ष के पहले दिन दिल्ली में न्यूनतम पारा सामान्य से छह डिग्री नीचे 1.1 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। वहीं अधिकतम तापमान 19.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य है। शनिवार को रिकार्ड किया गया न्यूनतम तापमान पिछले डेढ़ दशक (15 साल) में सबसे कम था। इससे पहले 2006 में आठ जनवरी को न्यूनतम तापमान 0.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। कोहरे के कारण दिल्ली के कई इलाकों में दृश्यता बहुत कम रही।

लखनऊ व मथुरा में शून्य तक पहुंचा तापमान

शुक्रवार को बर्फीली हवाओं (THAND) की वजह से लखनऊ और मथुरा का न्यूनतम शून्य के करीब जा पहुंचा। लखनऊ में शुक्रवार को सीजन का सबसे ठंडा दिन रहा। न्यूनतम तापमान 0.5 डिग्री सेल्सियस तक जा पहुंचा। इससे पहले 2017 में शहर का न्यूनतम पारा 0.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। आगरा में अधिकतम तापमान 17.2 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान दो डिग्री और कासगंज में अधिकतम तापमान 13 डिग्री व न्यूनतम तापमान तीन डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मेरठ व अलीगढ़ में शीतलहर के कारण लोग घरों में ही दुबके रहे। कानपुर में 31 दिसंबर की रात रात पड़ी ठंड से 23 साल का रिकार्ड टूट गया। यहां रात में पारा 2.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इससे पहले 1998 में एक जनवरी की रात न्यूनतम तापमान 2.3 डिग्री सेल्सियस रहा था।

सबसे ठंडा रहा हिसार शहर

हरियाणा के हिसार में सर्दी सभी रिकार्ड तोड़ दिए हैं। नौ वर्ष बाद लगातार दो दिन तक माइनस में न्यूनतम तापमान पहुंचा। गुरुवार रात में हिसार में रात्रि तापमान माइनस 1.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह सामान्य से आठ डिग्री सेल्सियस कम रहा। इस कड़ाके की सर्दी ने लोगों के हाथ-पैरों में गलन पैदा कर दी है। शीतलहर ने ठिठुरन भी बढ़ा दी है।

ओलावृष्टि की संभावना

उत्तराखंड में नववर्ष का स्वागत गुनगुनी धूप के साथ हुआ। पहाड़ से लेकर मैदान तक चटख धूप राहत देती रही। हालांकि मैदानी क्षेत्रों में सुबह और शाम कोहरा और पहाड़ों में पाला चुनौती बन रहा है। मौसम विभाग के अनुसार रविवार से मौसम फिर करवट बदलेगा। इस दौरान बारिश के साथ ही ओले भी गिर सकते हैं। पिछले दिनों बारिश और बर्फबारी के बाद पहाड़ से लेकर मैदान तक कड़ाके की सर्दी की चपेट में हैं। बर्फीली हवा हाड़ कंपा रही है। हिमाचल में भी कड़ाके की सर्दी पड़ रही है। जम्मू-कश्मीर में भी चार जनवरी से हिमपात और बारिश के आसार हैं।

कोहरे के कारण सड़क हादसे, 21 की मौत

उप्र में घने कोहरे और तेज रफ्तार (THAND) के कारण हुए हादसों में यमुना एक्सप्रेस वे पर जहां पांच लोगों की मौत हो गई, वहीं मुरादाबाद क्षेत्र में सात लोगों को जान गंवानी पड़ी। 12 लोग घायल हो गए। बागपत में ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे पर 50 वाहन आपस में टकरा गए, जिनमें 70 से अधिक लोग घायल हो गए। इसी तरह आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे पर नौ लोगों की जान चली गई और एक दर्जन से ज्यादा लोग घायल हो गए।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*