Chhattisgarh State, Power Distribution, Company Limited, Mohammed Qaiser Abdulhaque, IAS,

बिजली चोरों की जानकारी दी, अब इनाम लेने लगा रहे विभाग के चक्कर

हर जोन में सूचना लगाकर जारी किया था निर्देश
कितने खबरियों ने दी विभाग को सूचना खुद अफसरों को पता नहीं

रायपुर। प्रदेश में बिजली चोरी की घटना कम हो सके इसलिए बिजली कंपनी के अधिकारियों ने प्रोत्साहन राशि योजना शुरू की थी। टोलफ्री नंबर पर मुखबिरों ने सूचना देना शुरू की तो अफसरों ने प्रोत्साहित भी किया। वर्तमान में बिजली विभाग की यह योजना कागजो में दम तोड़ रही है। बिजली विभाग के अधिकारी सूचना देने वाले मुखबिरों को पैसा नहीं दे रहे, जिस वजह से वो विभागों के चक्कर लगा रहे है। अफसर रिकवरी होने पर भुगतान देने की बात कह रहे है। कितने मुखबिरों को पैसा बिजली कंपनी के अधिकारियों ने इस वर्ष भुगतान किया है। इस बात का रिकार्ड भी अफसरों के पास मौजूद नहीं है।

इतना पैसा मिला है मुखबिरों को

बिजली कंपनी के अधिकारियों के अनुसार बिजली चोरों की सूचना देने वाले मुखबिरों को प्रतिशत प्रोत्साहन राशि के रुप में मिलता है। जितनी वसूली बिजली चोर से मुखबिर की सूचना पर करता है, उसका ५० प्रतिशत कार्रवाई के दौरान मुखबिर को दिया जाता है। बिजली चोर से पैसा रिकवरी करने के बाद १० प्रतिशत भुगतान दोबारा मुखबिर को किया जाता है।

रायपुर के जोनो में लगी है सूचना

बिजली चोरों की जानकारी देने पर इनाम मिलेगा? यह जानकारी बिजली कंपनी के अधिकारियों ने अपने हर कार्यालय में लगा रही है। बिल काउंटर के पास अधिकांशता इस जानकारी को पढ़ा जा सकता है। विभागीय अधिकारी योजना के तहत मुखबिरों की सेवा ले रहे है, लेकिन उन्हें भुगतान नहीं कर रहे है। अधिकारियों की इस लापरवाही से बिजली बिल चोरी करने वालों की जानकारी भी वर्तमान में कम विभाग के पास पहुंच रही है।

९० कर्मचारियों का है सेटअप

बिजली कंपनी के विजिलेंस विभाग की अलग टीम काम करती है। विजिलेंस में हर सर्किल में 6-6 अधिकारियों एवं कर्मचारियों का सेटअप हैं, जो बिजली चोरी पकड़ते हैं। एक अधिकारी ने बताया कि बिजली चोरी पकड़े जाने पर सालभर की खपत के एवरेज में जुर्माना किया जाता है। जुर्माना देने पर आरोपी मनमानी करता है, तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाती है।

३ महीने में ३५० से ज्यादा कार्रवाई

बिजली कंपनी के अधिकारियों ने ३ माह में ३५० से ज्यादा कार्रवाई की है। इन कार्रवाई के पीछे मुखबिर अपना दावा कर रहे है और विजलेंस कंपनी के अफसर इसे विभागीय कार्रवाई बता रहे है। सूचना देने का पैसा मिल सके इसलिए पिछले १० दिनों से कई मुखबिर विभाग के चक्कर लगा रहे है, लेकिन हर बार उन्हें रिकवरी नहीं होने की बात कहते हुए टरकाया जा रहा है।

बिजली कंपनी के डायरेक्टर डिस्ट्रीब्यूशन मो. कैसर हक़ ने बताया कि बिजली चोरों पर विजलेंस कंपनी की टीम रखे हुए है और लगातार कार्रवाई की जा रही है। मुखबिरों की मदद से यदि कार्रवाई की गई है, तो उन्हें भुगतान किया जाएगा। जिन्हें समस्या है, वे हमारे पास आकर अपनी समस्या का समाधान करवा सकते है। मैं भी मामलें की जानकारी जिम्मेदार अधिकारियों से लेता हूँ।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*