Chhattisgarh, Road accident, Raipur at number one, State, 4 thousand 956 people died,

सड़क हादसों में रायपुर नंबर एक पर, प्रदेश में 4 हजार 956 लोगों की मौत

नियमों की अवेहलना और अधूरा निर्माण हादसों की वजह

रायपुर। प्रदेश में वर्ष 2019 में 13 हजार 927 हादसे हुए। इन हादसों में 13 हजार 301 लोग घायल हुए है और 4 हजार 956 लोगों की मौत हुई है। विशेषज्ञों की माने तो प्रदेश में सड़क हादसों की प्रमुख वजह शराब सेवन से गाड़ी चलाना, नियमों को तोडऩा और अधूरा निर्माण है। प्रदेशवासी नियमों का पालन करें इसलिए डीजीपी डीएम अवस्थी ने सभी पुलिस अधीक्षकों को  जागरूकता अभियान चलाने के साथ सख्ती बरतने का निर्देश दिया है। पुलिस की  सख्ती के बाद भी वर्ष 2019 में सड़क हादसों में वर्ष 2-018 की अपेक्षा 7.93 प्रशित हादसों की बढ़ोत्तरी हुई है।

इन 5 जिलों में सबसे ज्यादा हादसे

पुलिस अधिकारीयों से मिले आकड़ों के अनुसार वर्ष 2019 में सबसे ज्यादा हादसे रायपुर, बिलासपुर, राजनांदगांव, जांजगीर-चापा और रायगढ़ में हुए है। इन जिलों में हादसों की संख्या वर्ष 2019  में क्रमशः 2 हजार 146, 1 हजार 330, 960,  648 और 640 है। इन हादसों में मरने वालों की संख्या क्रमशः 458, 355, 314, 298 और 281 है। वर्ष 2018 की अपेक्षा वर्ष 2019  में सड़क हादसों में रायपुर में 31, बिलासपुर में 30, राजनांदगांव में 27, जांजगीर-चापा में 12 और रायगढ़ में 20 ज्यादा मौत हुई है।

डीजीपी लगा चुके है फटकार

वर्ष 2018 की अपेक्षा 2019 में हादसे और मौत का आकड़ा ज्यादा बढऩे पर पिछले दिनों डीजीपी डीएम अवस्थी ने प्रदेश पुलिस के अधिकारियों की बुलाई थी। बैठक में चालान काटने के बजाए वाहन चालकों पर सख्ती करने का  निर्देश डीजीपी अवस्थी ने दिया है। रात के समय सडकों और हाईवे पर गश्त करने का फरमान भी बैठक के दौरान डीजीपी अवस्थी ने जारी किया है।

डीएसपी ट्रैफिक सतीश ठाकुर ने बताया कि सड़क हादसे में कमी आए इसलिए जागरूकता अभियान लगातार चलाया जा रहे है। लोगों को भी जागरूक होने की आवश्यकता है। नियमों का पालन करने से ही हादसों में कमी आ सकती है। लोग सुरक्षित घर पहुंचे हमारा यही प्रयास है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*