Rape,

हाथरस गैंगरेप- गैंगरेप पीड़िता ने 15 दिन संघर्ष के बाद तोड़ा दम

 हैवानियत के दौरान आरोपियों ने तोड़ी थी रीढ़ की हड्‌डी-काटी थी जीभ

लखनऊ. हाथरस गैंगरेप (Rape) की शिकार पीड़िता ने मंगलवार को दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में दम तोड़ दिया। 14 सितंबर को उत्तर प्रदेश के हाथरस में पीड़िता का गैंग रेप करने के बाद आरोपियों ने जीभ काट डाली थी और रीढ़ की हड्डी तोड़ दी थी।

हैवानियत (Rape) के बाद 15 दिन तक लड़की सिर्फ इशारे से ही अपना दर्द समझाती रही। मामलें में विपक्ष से लेकर बॉलीवुड तक गुस्से में है। लोग दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए प्रदर्शन कर रहे है। पीड़िता के भाई ने कहा है कि दरिंदों को फांसी दिलानी है। जब तक इंसाफ नहीं मिलता है, तब तक हमें खतरा रहेगा। मामलें में सीएम योगी आदित्यनाथ ने 10 लाख रुपए मुआवजा देने का ऐलान किया है।

जाने पूर मामला

14 सितंबर को हाथरस के चंदपा थाना इलाके में स्थित गांव में दलित युवती के साथ गांव के रहने वाले 4 दबंग युवकों ने गैंगरेप (Rape) किया था। पुलिस के अनुसार, वारदात की सुबह लड़की, अपने बड़े भाई और मां के साथ जंगल में घास काटने गई थी। बड़ा भाई घास की गठरी लेकर चला गया।  मां कुछ दूर आगे घास काट रही थी। बेटी मां से थोड़ा पीछे काम कर रही थी।  इसी दौरान चार लड़के पीछे से आए और लड़की का मुंह दबा दिया फिर उसे खींचते हुए खेत में लेकर गए और हैवानियत की।

घटना के बाद काटी जीभ, तोड़ दी हड्‌डी

घटना के दौरान युवती बेहोश हो गई, तो आरोपियों ने उसकी जीभ काट दी और जान से मारने के इरादे से रीढ़ ही हड्‌डी तोड़ दी। परिजनों ने गंभीर हालत में लड़की को अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। जहां हालत बिगड़ने पर दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में रेफर किया गया था।

10 दिन तक कोई गिरफ्तारी ने

परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने पहले सिर्फ धारा 307 के तहत मामला पंजीबद्ध किया और एक व्यक्ति को अभियुक्त बनाया। मामलें में 10 दिन तक कोई कोई गिरफ्तारी नहीं। पीड़िता का बयान लेने भी पुलिस 5 दिन बाद पहुंची।

आरोपियों की पहचान गांव के ही रहने वाले संदीप, लवकुश, रामू और रवि के रूप में हुई। हाथरस पुलिस इंस्पेक्टर ने बताया कि संदीप को 14 सितंबर को ही गिरफ्तार कर लिया गया था। घटना के 9 दिन बाद पीड़िता को होश आया था। मामलें अब राजनीति तेज हो गई है।

सीएम योगी आदित्यनाथ पर भीम आर्मी से लेकर बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो तक ने निशाना साधा है। मंगलवार देर शाम युवती का शव गांव लाया गया और उसका अंतिम संस्कार किया गया। शव के गांव पहुंचने से पूर्व लोगों का आक्रोश देखते हुए पुलिस अधिकारियों ने पीएसी को तैनात कर दिया है।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*