lockdown in cg

CG update:सोमवार तक पहुंचेंगे 1500 छ़ात्र,लेने 75 बसें रवाना

1500 छ़ात्रों को लेने के लिए बसें रवाना

रायपुर. CG update अन्य राज्यों की तहर प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लॉकडाउन में फंसे छात्रों को लेकर संवेदनशीलता दिखाई है। शुक्रवार को यहां से भी कोटा में फंसे 1500 छात्रों को लाने के लिए 75 बसें(75 buses left to bring back the students) गई हैं। कोटा से रायपुर तकरीबन 990 किलोमीटर दूर है। सफर में 19 घंटे सड़क परिवहन मार्ग से लगेंगे है। इससे तय है कि छात्र सोमवार शाम तक रायपुर पहुंच सकते हैं।

यह भी पढ़े: coronavirus के निशुल्क इलाज और परीक्षण संबधी याचिका खारिज

शुक्रवार की शाम राजधानी के पुलिस परेड ग्राउंड से राजस्थान के कोटा के 75 बसें निकल गई हैं। बसों के साथ एम्बुलेंस सहित डॉक्टरों का दल भी भेजा गया है। कोटा से आने वाले छात्रों का स्वास्थ्य परीक्षण के बाद ही बसों से लाया जा सके।

खाने पीने की व्यवस्था साथ में

रायपुर से कोटा की दूरी ज्यादा होने कारण छात्र-छात्राओं के खाने-पीने की भी व्यवस्था की गई है। साथ में एम्बुलेंस भी बसों के साथ चलेगी। जिससे रास्ते में यदि किसी की तबीयत खराब बिगड़ी तो इलाज हो सके।

रहेंगे 14 दिन के क्वॉरेंटाईन में

कोटा से छत्तीसगढ़ के लगभग 1500 छात्र-छात्राओं को वापस लाया जा रहा है। कोटा से आने वाले छात्र-छात्राओं के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी एडवाईजरी के पालन का भी ध्यान रखा जाएगा। छात्रों को 14 दिन के क्वॉरेंटाईन में रखा जाएगा। उनके स्वास्थ्य परीक्षण उपरांत स्वस्थ मिलेने वाले छात्रों को घर भेजा जाएगा।

केंद्रीय गृह मंत्री से की थी चर्चा

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गत दिवस केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह से छत्तीसगढ़ के छात्रों को कोटा से वापस लाने के संबंध में आग्रह किया था। गृहमंत्री की सहमति के बाद यह प्रयास शुरू किए गए हैं।

मजदूरों को लिए भी मांगी अनुमति

मुख्यमंत्री ने कहा कि विभिन्न राज्यों में फंसे छत्तीसगढ़ के मजदूरों को वापस लाने के लिए भी अनुमति मांग रहे है, जैसे ही सहमति बनती है, विभिन्न राज्यों में फंसे मजदूरों को भी वापस लाएंगे।

यह है तैयारी

  • कोटा से आने वाले छात्र-छात्राओं की सुरक्षा के लिए पुलिस बल भी भेजा गया है।
  • परिवहन विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों का दल भी साथ में भेजा गया है।
  • बसों को सेनेटाईज किया गया है और छात्रों के बैठने के पहले एक बार फिर किया जाएगा।
  • छात्र-छात्राओं को बसों में सोशल डिस्टेसिंग के आधार पर बैठाया जाएगा
  • एक बस में निर्धारित क्षमता से आधी सीटों में छात्र-छात्राओं को बिठाया जाएगा।
  • एक बस में लगभग 25 छात्र बैठ सकेंगे।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*