BJP leader commented,

तेंदुपत्ता खरीदी बंद कर भूपेश सरकार ने वनवासी भाईयो के साथ अन्याय किया : राम विचार

प्रदेश सरकार की वादाख़िलाफ़ी, धोखाधड़ी और छलावे से सबको अवगत कराए कार्यकर्ता

रायपुर. छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार के खिलाफ बीजेपी पदाधिकारियों ने मोर्चा खोल दिया है। भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व संसद सदस्य (राज्यसभा) रामविचार नेताम (BJP leader commented) ने छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार पर हमला बोलते हुए भाजपा कार्यकर्ताओं से आग्रह किया है कि वे प्रदेश सरकार की वादाख़िलाफ़ी, धोखाधड़ी और छलावे से प्रदेश के घर-घर तक पहुंचाए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने जो उपलब्धियाँ अर्जित की हैं, उन्हें लेकर भाजपा देशभर में 10 करोड़ लोगों से सीधे संपर्क करेगी। बीजेपी नेता नेताम सोमवार को यहाँ कुशाभाऊ ठाकरे स्मृति परिसर में भाजपा द्वारा आहूत जिला जनसंवाद कार्यक्रम के तहत बस्तर जिला की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग सभा को संबोधित किया।

यह भी पढ़े: प्रदेश सरकार संघीय व्यवस्था के पालन में ईमानदार नज़र नहीं आ रही है : सरोज

मोदी सरकार का काम मिसाल

राज्यसभा सदस्य नेताम ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में ग़रीबों, आदिवासियों, किसानों, मज़दूरों, युवाओं, महिलाओं आदि सभी वर्गों के लिए जो काम किया है, वे एक मिसाल हैं। केंद्र सरकार के दूसरे कार्यकाल के एक वर्ष में धारा 370 और अनुच्छेद 35-ए को ख़त्म करते हुए जम्मू-कश्मीर व लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाकर उन्हें विकास की मुख्यधारा से जोड़ा है।

बीजेपी नेता नेताम ने श्रीरामजन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने और तीन तलाक़ क़ानून व नागरिकता संशोधन क़ानून बनाने को केंद्र सरकार के साहसिक व क्रांतिकारी फैसले बताया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने बस्तर को एक मॉडल के तौर पर विकसित करने की चिंता की और उस दिशा में सार्थक प्रयास किए।

BJP leader commented: भाजपा की योजनाएं बंद कर रही कांग्रेस

बीजेपी नेताम ने इस बात पर अफ़सोस जताया कि प्रदेश की मौज़ूदा कांग्रेस सरकार ने पूर्ववर्ती प्रदेश भाजपा सरकार और केंद्र सरकार की योजनाओं को बंद कर और उनमें अड़ंगा डालकर प्रदेश की जनता की उम्मीदों पर पानी फेरने का काम किया है।

आज प्रदेश का मज़दूर काम-धंधे की तलाश में भटक रहा है और प्रदेश सरकार ने तेंदूपत्ता की खरीदी बंद करा इन श्रमिकों के साथ भी अन्याय किया है। बस्तर और सरगुजा में आदिवासियों के लिए इमली, साल बीज, चिरौंजी तेंदूपत्ता संग्रहणआदि वनोपज ही अर्थोपार्जन का जरिया है, लेकिन प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने इन वनोपजों की मार्केटिंग का काम ही नहीं किया। प्रदेश सरकार को इन मज़दूरों की चिंता ही नहीं है।

देश-प्रदेश की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*